अलवर गैंगरेप: आरोपियों ने पीड़िता से कहा- दलित हो, हमारा क्या बिगाड़ लोगी?

राजस्थान (एजेंसी) : अलवर में गैंगरेप का शिकार हुई 19 साल की युवती ने अपनी आपबीती बयां की है. पीड़िता का कहना है कि उनकी जाति जानने के बाद आरोपियों ने उनसे रेप करने का इरादा बना लिया था. पीड़िता ने कहा है कि आरोपियों ने पहले उनकी और उनके पति की जाति पूछी थी. उन्होंने बताया कि वे दलित हैं. उनकी जाति जानने के बाद आरोपियों ने कहा कि ये दलित हमारा क्या बिगाड़ लेंगे? इसके बाद पांच आरोपी दोनों को घसीट कर सुनसान जगह ले गए. वहां झाड़ियों के बीच पीड़िता के साथ गैंगरेप किया.

बता दें कि वारदात के वक्त पीड़िता अपने पति के साथ एक शादी में जाने के लिए कपड़े खरीदने बाजार जा रही थी, तभी कुछ बदमाश आए उनके साथ मारपीट करने के बाद इस वारदात को अंजाम दिया. बहरहाल, पीड़िता अभी भी शारीरिक और मानसिक आघात से जूझ रही है.

अंग्रेजी अखबार ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की रिपोर्ट के मुताबिक, पीड़िता ने बताया कि आरोपी दो बाइक से आए थे. इस दौरान पहले एक बाइक वाला उनके पीछे गया और दूसरी कुछ मिनट बाद पीछा किया और चली गई.’ पीड़िता ने बताया, ‘तब तक वो हमारी गाड़ी को ओवरटेक कर रास्ते को रोकने की कोशिश कर रहे थे. मुझपर फब्तियां कस रहे थे. रास्ता रोकने के बाद उन्होंने पहले हमसे हमारे नाम और हमारे पिता के नाम पूछे. फिर उनमें से एक आदमी ने हमसे पूछा कि हमारी जाति क्या है. हमने कहा कि हम दलित है, इस पर उन्होंने कहा कि दलित हमारा क्या ही बिगाड़ लेंगे?’

झाड़ियों में ले जाकर की दरिंदगी

इसके बाद आरोपियों ने उनसे शादीशुदा होने के बारे में पूछा, जिस पर इस जोड़े ने हां में जवाब दिया. बावजूद उन्होंने 19 वर्षीय महिला और उसके 22 वर्षीय पति को पकड़ा लिया और घसीटते हुए झाड़ियों की तरफ लेकर गए. वहां 5 लोगों ने बारी बारी से युवती का रेप किया. जबकि, छठे आरोपी ने इस पूरी घटना का वीडियो बनाया. इसके बाद उसकी और उसके पति की भी वीडियो बनाने के लिए दबाव बनाया.

वीडियो वायरल करने की दी धमकी, कर रहे थे ब्लैकमेलशाम करीब शाम 5 बजे आरोपियों ने महिला के पति के बटुए से 2000 रुपए निकालकर उन्हें रिहा कर दिया. साथ ही धमकी भी दी कि अगर दंपति ने घटना के बारे में किसी को भी बताया या पुलिस से संपर्क किया तो वे वीडियो जारी कर देंगे. वहीं, बीते 28 अप्रैल को आरोपियों ने दंपति को फोन किया और उन्हें ब्लैकमेल कर 10 हजार रुपए मांगे. नहीं देने पर वीडियो जारी करने की फिर से धमकी दी.

घर में हो रही थी शादी की तैयारियां

बता दें कि घटना बीते 26 अप्रैल की है. पीड़ित महिला के घर में भतीजे की शादी की तैयारियां चल रही थीं. तब पीड़िता के ससुर ने अपने बेटे को शादी के लिए कुछ कपड़े खरीदने के लिए बाजार जाने के लिए कहा था. इसके बाद दोपहर करीब 3 बजे दंपति बाइक से बाजार के लिए निकल गए. तभी रास्ते में उन्हें 6 आरोपियों ने रोक लिया.

रात को सोते वक्त दिखाई देता है घटना का भयानक मंजर

पीड़िता का कहना है कि ये बात सोचकर वह घबरा जाती है कि उसके साथ ये क्या हो गया और वह अब सामान्य होने के लिए खुद को ही समझाने के लिए मजबूर है. पीड़िता का कहना है कि जब भी वह रात को सोने जाती है, उसे पूरी घटना का भयानक मंजर दिखाई देने लगता है.

महिला ने दोषियों के लिए मांगी फांसी

हालांकि, इतना सब गुजरने के बाद भी पीड़िता ने हिम्मत नहीं हारी और अब दोषियों के लिए कड़ी से कड़ी सजा की मांग कर रही है. पीड़िता ने कहा कि दोषियों को फांसी की सजा होनी चाहिए, जिससे ऐसी दरिंदगी किसी और महिला के साथ करने से पहले ऐसे लोग सौ बार सोचें.

थाना प्रभारी निलंबित

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) ने राजस्थान में कांग्रेस सरकार को एक नोटिस भेजा है, जिसके बाद अलवर के एसपी को हटा दिया गया है. साथ ही कार्रवाई में देरी के लिए स्थानीय पुलिस स्टेशन के प्रभारी को भी निलंबित कर दिया गया है.

पुलिस ने दाखिल की चार्जशीट

बहरहाल, अलवर गैंगरेप के सभी 6 आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने 18 मई को अदालत में चार्जशीट दाखिल कर दी है. इस मामले में एफआईआर 2 मई को दर्ज की गई थी और बाद में पुलिस ने बलात्कार के 5 आरोपियों को आईपीसी और एससी/एसटी एक्ट की संबंधित धाराओं के तहत गिरफ्तार कर लिया. वहीं एक अन्य आरोपी जिसने वीडियो शूट किया था और सोशल मीडिया पर अपलोड किया था, उसे भी आईटी अधिनियम के तहत पकड़ लिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *