Home > राज्यवार > दिल्ली > भूतही बलान बाढ़ पीड़ित आंदोलन की पूरी टीम पहुंची राजघाट

भूतही बलान बाढ़ पीड़ित आंदोलन की पूरी टीम पहुंची राजघाट

भूतही बलान बाढ़ पीड़ित आंदोलन की पूरी टीम पहुंची राजघाट
X

संतोष कुमार
नई दिल्ली: बिहार के मधुबनी जिला अंतर्गत भूतही बलान से प्रभावित क्षेत्र की जनता द्वारा चलाए जा रहे "भूतही बलान बाढ़ पीड़ित आंदोलन " की सभी प्रमुख सदस्य राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के समाधी स्थल राजघाट, दिल्ली पहुँचकर दर्शन किया और आशीर्वाद प्राप्त कर एक बैठक बुलाई जिसमें कई अहम फैसला लिया गया।
जिनमें मुख्य रूप से आगामी 30 दिसम्बर को दिल्ली के जन्तर- मन्तर पर आयोजित शांतिपुर्ण धरना प्रदर्शन को सफल बनाने हेतु दिशा निर्देश, संगठन को मजबूती प्रदान करने हेतु जागरूक लोगों की टीम बनाकर जिम्मेदारी देने का दिशा निर्देश, और 56 गाँवों में वार्ड स्तरीय टीम का गठन करने का फैसला लिया गया। इस बैठक में जन्तर मन्तर पर होने वाली धरना प्रदर्शन में रेलवे से सम्बन्धीत मांगे रखा गया । जिनमें मुख्य हैं 2003 से निर्माणाधीन रेल खंड सकरी से फारबिस गंज , झंझारपुर से लौकहा और सहरसा से फारबिस गंज तक बड़ी रेलवे लाइन का निर्माण कार्य अतिशीघ्र पुरा किया जाए और घोघरडीहा- निर्मली रेल खंड के मध्य किसनी पट्टी, परसा के समीप पुल नं 133 का N.O.C दिया जाए ताकि भूतही बलान की पूर्वी तटबंध का निर्माण हो सके।मालूम हो कि इस क्षेत्र में छोटी रेलवे लाइन को बदल कर बड़ी रेलवे लाइन का विस्तारी करण 2003 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एवं तत्कालीन रेल मंत्री नीतीश कुमार ने किया था। तब से लेकर अभी तक निर्माण कार्य पुरा नहीं हो पाया है । जिस कारण क्षेत्र की लाखों लोगों को यातायात की काफी असुविधा होती है। और भूतही बलान की पूर्वी तटबंध जो बर्षो से अधूरी परी है रेलवे द्वारा N.O.C नहीं मिलने के कारण आगे का निर्माण कार्य नहीं हो पा रहा है।"भूतही बलान बाढ़ पीड़ित आंदोलन" द्वारा आगामी लोकसभा चुनाव में मत बहिष्कार का निर्णय लिए जाने पर जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने जल संसाधन मंत्री ललन सिंह से मुलाकात करबाए थे। इसके बाद अधिकारी ने तटबंध को निरीक्षण करके इसका रिपोर्ट रेलवे व जल संसाधन मंत्रालय को भेज चुके है। लेकिन रेलवे के तरफ कोई जवाब नहीं आया। जबकि रिपोर्ट में लिखा गया है कि तटबंध का निर्माण कार्य किया जा सकता है इससे रेलवे को कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिये।इस बैठक में मुख्य रूप से कमल भंडारी, संतोष कुमार, संतोष राज, कन्हैया झा, शंम्भू नाथ झा, जय प्रकाश कामत, अनूपम कुमार, महानारायण राय, कमल देव राय, रवि पासवान , कृष्ण कुमार राय, बृज किशोर राय व अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

Updated : 24 Dec 2018 2:33 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top