Top
Home > राज्यवार > बिहार > बिहार: नीतीश सरकार ने पेश किया 2.18 लाख करोड़ का बजट, रोजगार व महिला सशक्तिकरण पर जोर

बिहार: नीतीश सरकार ने पेश किया 2.18 लाख करोड़ का बजट, रोजगार व महिला सशक्तिकरण पर जोर

उपमुख्यरमंत्री व वित्तब मंत्री तारकिशोर प्रसाद ने सोमवार को बिहार विधानमंडल में 2 लाख 18 हजार करोड़ का बजट पेश किया।

बिहार: नीतीश सरकार ने पेश किया 2.18 लाख करोड़ का बजट, रोजगार व महिला सशक्तिकरण पर जोर
X

उदय सर्वोदय

पटना: उपमुख्यरमंत्री व वित्तब मंत्री तारकिशोर प्रसाद ने सोमवार को बिहार विधानमंडल में 2 लाख 18 हजार करोड़ का बजट पेश किया। प्रसाद ने बजट पेश करने के दौरान कई बड़ी घोषणा की और कहा कि इसी वित्तीेय वर्ष में 20 लाख लोगों को रोजगार उपलब्धक कराया जाएगा। साथ ही महिलाओं पशुधन कृषि और उद्योगों के लिए भी महत्वलपूर्ण घोषणाएं की।

भोजनावकाश के बाद पेश बजट भाषण के आरंभ में ही वित्तप मंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की कविता पढ़ी, जो बाधाओं से जूझने के लिए प्रेरित करती है- 'बाधाएं आती हैं आएं।।कदम मिलाकर चलना होगा।' उन्हों ने कहा कि सरकार के प्रयासों से हम आर्थिक संकट से बाहर निकल पाए हैं। कोरोना अभी टला नहीं है। विपत्तियों से हम घबराते नहीं हैं। अंधकार के बाद नया सवेरा आता है।

बजट सत्र शुरू होने से पहले से विपक्ष महंगाई, पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमत, कोविड-19 जांच के आंकड़े में फर्जीवाड़ा और कृषि कानूनों के खिलाफ बिहार की एनडीए सरकार पर हमवालर रही।

वित्तमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कोरोना की मुश्किलों के बावजूद आम लोगों को राहत देते हुए किसी प्रकार का टैक्स नहीं लगाया गया है। पिछले साल से यह सात हजार करोड़ रुपये ज्यादा का बजट है। वित्तीय वर्ष 2020-21 में बिहार का बजट दो लाख 11 हजार करोड़ रुपये का था। बजट में वित्त मंत्री ने अगले वित्तीय वर्ष में दो लाख 18 हजार 502 करोड़ की अनुमानित आय का दावा किया है। योजना मद में एक लाख 51 हजार 881 करोड़ रुपये खर्च करने की व्यवस्था की गई है।

बजट का सबसे मजबूत पक्ष है 20 लाख लोगों को इसी वित्तिय वर्ष में नौकरी और महिला सशक्तिकरण। इसके लिए राज्य सरकार ने कई योजनाएं लाने की घोषणा की है। महिलाओं को उद्यमी बनाने के लिए खजाना खोला गया है। कोई महिला अगर अपना उद्योग लगाना चाहे तो उसे पांच लाख रुपये का अनुदान दिया जाएगा। साथ ही अतिरिक्त पांच लाख रुपये का ऋण ब्याज मुक्त दिया जाएगा। इसके लिए उद्योग विभाग में दो सौ करोड़ रुपये का अतिरिक्त प्रावधान किया गया है। अगले चार वर्षों में सात निश्चय -2 की योजनाओं पर काम होगा।

वित्त मंत्री ने एक शायरी के साथ बजट भाषण का समापन किया-

'उनकी शिकवा है कि मेरी उड़ान कुछ कम है। रख हौसला वह मंजर भी आएगा।

प्यासे के पास, चलकर समंदर भी आएगा।

थककर न बैठ मंजिल के मुसाफिर। मंजिल भी मिलेगी और मिलने का मजा भी आएगा।'

बजट की खास बातें-

  • पशुओं के इलाज की बेहतर व्यवस्था की जाएगी। बजट में पशुधन के स्वास्थ्य के लिए 500 करोड़ की राशि का प्रावधान। गो वंश विकास की स्थापना की जाएगी। पशुओं के इलाज के लिए कॉल सेंटर के जरिए डोर स्टेप इलाज की व्यवस्था। मोबाइल एप के माध्यम से मिलेगी सुविधा।
  • बुजुर्गों के लिए आश्रय स्थल बनाए जाएंगे। बजट में इसके लिए 90 करोड़ की व्यवस्था की गई। गांवों में संपर्क सड़क बनाने की योजना। इस योजना पर 250 करोड़ का प्रावधान। शहरी क्षेत्र में बाईपास और फ्लाई ओवर बनाये जाएंगे। इसके लिए बजट 200 में करोड़ का प्रावधान किया गया है।
  • बिहार के सभी शहरों में जल जमाव की समस्या को दूर करने के लिए 450 करोड़ राशि का प्रावधान बजट में किया गया है। बुजुर्गों के लिए आश्रय स्थल बनाए जाएंगे।
  • बिहार की मछली दूसरे राज्य में जाय इतना उत्पादन होगा। पशु एवं मत्स्य पालन के लिए सहायता को लेकर 500 करोड़ का प्रावधान। राज्य सरकार के द्वारा बहुमंजिला भवन बना कर आवास दिया जाएगा। सभी शहरो में विद्युत शवदाह केंद्र बनाया जाएगा।
  • हर खेत में पानी पहुंचाने की योजना के लिए 550 करोड़ का का बजट प्रावधान। हर गाँव मे सोलर लाइन लगाई जाएगी। सभी गांव में सोलर स्ट्रीट लाइट के लिए 150 करोड़ का बजट प्रावधान।
  • उच्च शिक्षा के लिए अविवाहित महिलाओं को 25 हजार और स्नातक उत्तीर्ण होने पर महिलाओं को 50 हजार की आर्थिक सहायता, सरकार के द्वारा महिलाओं को सरकारी नौकरी में 35 फीसदी आरक्षण। सरकारी आफिस में आरक्षण के अनुरूप संख्या बढ़ाई जाएगी।
  • 2020-25 में रोजगार के 20 लाख से ज्यादा अवसर पैदा किए जाएंगे, सरकारी और गैर सरकारी क्षेत्र में 20 लाख से ज्यादा रोजगार सृजित किया जाएगा। इसके 2021-22 में 200 करोड़ रुपये व्यय किया जाएगा। महिलाओं को उद्योग के लिए 5 लाख तक ब्याज मुक्त ऋण दिया जाएगा।

Updated : 22 Feb 2021 10:54 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top