Home > राज्यवार > बिहार > नन्हे एनायेतुल्लाह ने छह साल की उम्र में मुकम्मल कर लिया कुरान पाक का नाज़रा

नन्हे एनायेतुल्लाह ने छह साल की उम्र में मुकम्मल कर लिया कुरान पाक का नाज़रा

मनपौर निवासी मो. सनाउल्लाह के पुत्र एनायेतुल्लाह की इस कामयाबी से पूरा समाज गदगद है और उन्हें बधाइयां मिल रही हैं।

नन्हे एनायेतुल्लाह ने छह साल की उम्र में मुकम्मल कर लिया कुरान पाक का नाज़रा
X

ब्यूरो रिपोर्ट

सीतामढ़ी: महज़ छह साल की उम्र में मोहम्मद एनायेतुल्लाह उर्फ चाहत बाबू ने कुरान नाजरा पूरा कर लिया है। परिहार प्रखंड के मनपौर निवासी मो. सनाउल्लाह के पुत्र एनायेतुल्लाह की इस कामयाबी से पूरा समाज गदगद है और उन्हें बधाइयां मिल रही हैं।

नन्हे मासूम एनायेतुल्लाह ने डेढ़ साल में बगदादी कायदा से लेकर कुरान पाक का नाज़रा मुकम्मल किया है। खास बात यह है कि उसके लिए न तो वो मदरसा गया और न ही किसी मौलाना से पढ़ाई की बल्कि एनायेतुल्लाह की मां शमशाद बेगम और मौसी शबनम खातून ने मिलकर घर पर ही उसे तालीम दी है।

अंग्रेजी अल्फाबेट और हिंदी वर्णमाला फटाफट पढ़ने के साथ एनायेतुल्लाह तीसरी कक्षा के पाठ्यक्रम की पुस्तकें पढ़ रहा है। उसे हिंदी और उर्दू अखबार पढ़ने का भी शौक है।

एनायेतुल्लाह ने बताया कि कुरान पढ़ना उसे अच्छा लगता है। नाजरा कुरान पूरा करने पर वो बहुत खुश है। अब्बा और अम्मी के अलावा गांव के तमाम लोग बेहद प्रसन्न हैं और उसे दुआएं दे रहे हैं। वो बड़ा होकर एक अच्छा इंसान बनना चाहता है और गरीब परिवार के बच्चों की मदद करना चाहता था।

नन्हे एनायेतुल्लाह की इस कामयाबी पर सीतामढ़ी जिला युवा कांग्रेस अध्यक्ष मो. शम्स शाहनवाज ने प्रसन्नता व्यक्त की है और उसे सम्मानित करने की घोषणा की है। शम्स ने कहा कि एनायेतुल्लाह जैसे प्रतिभाशाली बच्चों को बेहतर शिक्षा मिलनी चाहिए।

Updated : 19 March 2021 11:07 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top