Top
Home > साहित्य > पुस्तक लोकार्पण और कविता पाठ का आयोजन

पुस्तक लोकार्पण और कविता पाठ का आयोजन

पुस्तक लोकार्पण और कविता पाठ का आयोजन
X

मिनाक्षी पोद्दारराष्ट्रकवि रामधारी सिंह 'दिनकर ' की 110वीं जयंती पर 'पेनारोमा - द पेन्स वर्ल्ड' ने पुस्तक लोकार्पण और कविता पाठ का सफल आयोजन 23 सितंबर, 2018 को आई.टी.ओ. स्थित हिंदी भवन में सम्पन्न किया। कार्यक्रम में मंचासीन डॉ.बी.एन. मिश्रा, डॉ. धनंजय जोशी, अरविंद जोशी, दीपक जायसवाल, नित्यानंद तिवारी और डॉ. राजीव रंजन द्विवेदी ने दिनकर साहित्य पर सारगर्भित चर्चाएँ कीं! वेलकम एड्रेस स्पीच देते हुए 'पेनारोमा' के सह-संथापक अमरनाथ कुमार ने अतिथियों का स्वागत करते हुए सबों का धन्यवाद ज्ञापन किया। साथ ही कुमार पेनारोमा के विज़न का बखान भी किया। दिनकर का काव्य, भाषा शिल्प, कवि का व्यक्तित्व और समाज में व्याप्त ऊंघती मानव चेतना इत्यादि पर शोधपरक व्याख्यान सभी सम्मानित अतिथियों के द्वारा विस्तार से प्रस्तुत किया गया। कार्यक्रम में तीन पुस्तकों का लोकार्पण भी किया गया।पुस्तक लोकार्पण की समाप्ति के बाद कविता पाठ का आरंभ किया गया। वरिष्ठ कवियों में अमरनाथ कुमार, राजन मेहरा तथा सभी आमंत्रित सम्मानित अतिथियों ने भी दिनकर के काव्य का बखान के साथ-साथ अपनी-अपनी कविताओं का पाठ किया।सबों ने बेबाकी से जीवन की आपाधापी, अपने भीतर की पीड़ा, मोहब्बत, मां की ममता, चुनाव के समय और चुनाव के बाद राजनेता के व्यवहार मे आने वाले भारी परिवर्तन पर व्यंग, तमाम नक़ाब बदलते हुए आईने में अपने असली चेहरे, बलात्कार, माँ की वेदना जाहिर करती, बेटी की पीड़ा, पर्यावरण प्रदूषण से पृथ्वी पर हो रहे प्रभाव को दर्शाती कविता तथा समसामयिक घटनाओं पर आधारित विषय-वस्तु पर प्रकाश डाला गया।'पेनारोमा- द पेन्स वर्ल्ड' के सचिव, अभिमन्यु कुमार मिश्रा ने बताया कि संस्था का उद्देश्य साहित्य को सशक्त बनाना, समझना और इसे समाज से जोड़ना है। समाज की असंवेदनशील संरचना, लुप्त होती चेतना, विकृत मानसिकता, छिछलापन का लबादा ओढ़ती संस्कृति मानवीय संवेदनाओं को कुंठित करती है। अतः यह संस्था नई पीढ़ी के रचनाकारों को प्रोत्साहित करती है।

Updated : 2 Oct 2018 6:59 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top