Top
Home > प्रमुख ख़बरें > बजट 2019: किसी ने कहा- ‘थोथा चना बाजे घना’, तो किसी ने बताया- झूठ का पुलिंदा

बजट 2019: किसी ने कहा- ‘थोथा चना बाजे घना’, तो किसी ने बताया- झूठ का पुलिंदा

बजट 2019: किसी ने कहा- ‘थोथा चना बाजे घना’, तो किसी ने बताया- झूठ का पुलिंदा
X

नई दिल्ली (डेस्क रिपोर्ट) : 2019 के आम चुनाव से पहले मोदी सरकार ने अंतरिम बजट पेश किया. इस बजट में किसानों और मध्यम वर्ग को ध्यान में रखते हुए कई बड़े ऐलान किए गए. हालांकि इस पर विपक्षी दल के नेताओं की नकारात्मक प्रतिक्रिया रही, जबकि सत्ता पक्ष के नेताओं ने बजट को सराहा है. मोदी सरकार के बजट पर कांग्रेस पार्टी का कहना है कि ये ‘थोथा चना बाजे घना’ वाला बजट है. अपने ट्विटर हैंडल के जरिए कांग्रेस पार्टी ने पीयूष गोयल के हर एक ऐलान के बाद अपनी तीखी प्रतिक्रिया दी है. आइए देखते हैं किस नेता ने क्या कहा...https://twitter.com/INCIndia/status/1091259412885397504सत्ता पक्ष की प्रतिक्रिया अमेरिका में अपना इलाज करवा रहे केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने ट्वीट कर अंतरिम बजट के लिए केंद्र सरकार और पीयूष गोयल को शुभकामनाएं दीं. उन्होंने कहा कि 2014 से 2019 तक के हर बजट में आम लोगों को राहत दी गई है. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि यह बटज गरीब लोगों के लिए है. इनकम टैक्स में राहत देकर मिडिल क्लास को बहुत बड़ी राहत मिली है. इस बजट से करीब 40 से 50 करोड़ लोगों को किसी न किसी तरीके से फायदा मिलेगा. उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बजट 2019 की जमकर प्रशंसा की. योगी का कहना है कि किसानों, मिडिल क्लास, गरीबों और महिलाओं समेत ये बजट समाज के हर वर्ग के लिए हितकारी है. ये बजट ‘न्यू इंडिया’ के सपने को पूरा करने में मदद करेगा. केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने अंतरिम बजट को ऐतिहासिक करार दिया है. राजनाथ सिंह ने कहा है कि इस बजट से समाज के हर तबके को फायदा होगा. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि देश की सुरक्षा मोदी सरकार की प्राथमिकता रही है. मोदी सरकार ने अपने हर फैसले से सैनिकों का मनोबल और मान बढ़ाया है. शाह ने बजट को किसानों के लिए मील का पत्थर बताया. राम विलास पासवान ने अंतरिम बजट को दूसरी सर्जिकल स्ट्राइक करार दिया है.विपक्ष के नेताओं की प्रतिक्रिया  कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने कहा, “ये पूरा बजट एक तरह का फुस्स पटाखा है. हमने सिर्फ एक चीज अच्छी देखी कि मिडिल क्लास को टैक्स से राहत मिली है. किसानों को 6000 रुपए प्रति वर्ष की मदद 500 रुपए प्रति महीने पर आकर टिकती है. क्या ये राशि उन्हें सम्मान से जीने देने के लिए काफी है?” यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पूरे बजट को झूठा बताया है. उन्होंने ट्विटर पर लिखा, एक साल के बजट में दस साल आगे की झूठी बात है. बहुसंख्यक भूमिहीन किसानों व श्रमिकों के लिए इसमें कुछ भी राहत नहीं है. पांच सालों की प्रताड़ना और पीड़ा के बाद देश के किसान, व्यापारी-कारोबारी, बेरोजगार युवा अब बीजेपी से मुक्ति चाहते हैं, दिखावटी ऐलान नहीं. देश के पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम ने कार्यवाहक वित्तमंत्री पीयूष गोयल पर तंज कसा और कहा, “कांग्रेस पार्टी की घोषणा को कॉपी करने के लिए कार्यवाहक वित्तमंत्री को थैंक यू जो कहते हैं कि इस देश के संसाधनों पर पहला हक गरीबों का है. ” स्वराज इंडिया के नेता योगेंद्र यादव ने कहा है कि जाते-जाते यह सरकार किसानों को ठग गई.

Updated : 1 Feb 2019 9:42 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top