Home > राज्यवार > दिल्ली > कैंसर का इलाज प्रोटोन बीम थेरेपी से संभव : डॉ. दत्तात्रेयुदु

कैंसर का इलाज प्रोटोन बीम थेरेपी से संभव : डॉ. दत्तात्रेयुदु

कैंसर का इलाज प्रोटोन बीम थेरेपी से संभव : डॉ. दत्तात्रेयुदु
X

रिपोर्ट ¦ देबदुलाल पहाड़ीनई दिल्ली:- अपोलो द्वारा सरिता विहार में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में अपोलो ग्रुप के चेयरमैन डॉ. प्रताप सी. रेड्डी ने जानकारी दिया कि 'अपोलो हॉस्पिटल के परिवार में 'लिविंग लीजेंड इन कैंसर केयर' डॉक्टर दत्तात्रेयुदु नोरी को नियुक्त किया गया है. आपको बता दें कि पद्मश्री पुरष्कार विजेता डॉ. दत्तात्रेयुदु नोरी के निजी और पेशेवर जीवन मे उत्कृष्ट अनुकरणीय विशेषताओं के लिए अमेरिका में सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'ऐलिस आइलैंड मेडल ऑफ ऑनर' से सम्मानित किया जा चूका है। 2017 में इण्डियन कैंसर कांग्रेस ने उन्हें सर्वोच्च सम्मान 'लिविंग लीजेंड इन कैंसर केयर' से सम्मानित किया था। डॉ. नोरी ने कैंसर के इलाज और इसके आविष्कार में 40 साल बिताए हैं। अमेरिका में इन्होने कैंसर के अनुसन्धान में अग्रणी विश्वस्तरीय एक्सपर्ट के रूप में जाना जाता है, कैंसर के इलाज़ में नयी दिशा दिखाने का श्रेय इन्हें ही जाता है.Dattatreyudu-Nori डॉ. अनुपम सिब्बल- ग्रुप मेडिकल डायरेक्टर, अपोलो अस्पताल ग्रुप, प्रो. डॉ. दत्तात्रेयुडु नोरी-अंतर्राष्ट्रीय निदेशक - अपोलो कैंसर केंद्र, अपोलो ग्रुप ग्रूप, डॉ. प्रताप सी रेड्डी, अध्यक्ष, अपोलो अस्पताल ग्रुप, डॉ. एन सुब्रमण्यन, डायरेक्टर मेडिकल सेवर्स,अपोलो अस्पताल ग्रुप (बाएं से दाएं)अपोलो कैंसर सेन्टरों के मरीज अब डॉ. नोरी की विशेषज्ञता से लाभान्वित हो सकेंगे। डॉ. नोरी साल में 3 महीने भारत में अपॉलो हॉस्पिटल में उपलभ्ध होंगे। प्रोटोन थेरेपी प्रोफेसर डॉ. नोरी ने कहा कि कैंसर के खिलाफ अपोलो हॉस्पिटल के टीम के साथ जुड़ना अपने आप मे एक गर्व की बात है। अपोलो ग्रुप के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. अनुपम सिब्बल ने कहा की अपोलो हॉस्पिटल कैंसर के इलाज के लिए ऐसी तकनीक उपलब्ध करा रहा है जो इससे पहले सिर्फ़ भारत के बाहर ही उपलब्ध थी।'उदय सर्वोदय' के प्रश्न का जवाब देते हुए डॉ. दत्तात्रेयुदु नोरी ने कहा कि इस थेरेपी का खर्च न्यूनतम 25 लाख रूपया होने की सम्भावना है. इस इलाज का खर्च अमेरिका में तकरीबन एक करोड़ 75 लाख रूपया है. भारत में सर्वप्रथम सर्टी स्कैन, एमआरआई के बाद अब साउथ ईस्ट एशिया का पहला प्रोटोन थेरेपी से कैंसर जैसे ला-इलाज बीमारी को ठीक करने का श्रेय अपोलो को ही जाता है।डॉ. नोरी ने कहा लोगों को 3 चीजों के बारे में ध्यान देना चाहिए. पहला- तम्बाकू से दूर रहें . दूसरा- संतुलित आहार और व्यायाम करें और तीसरा- अपने परिवार के इतिहास पर ध्यान दें और अपने शरीर की सुनें। डॉ. नोरी ने क्यों अपोलो अस्पताल को चुना इस प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि सर्वश्रेष्ठ स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली अपोलो में ही है.डॉ. रेड्डी ने कहा अभी भारत में कैंसर के रोगी लगभग 2.25 मिलियन (22 लाख से ज्यादा ) हैं और हर साल नए कैंसर रोगियों की संख्या लगतार बढ़ रही है. हर साल कैंसर से तकरीबन 7,84,821 मौतें हो रही हैं.

Updated : 29 July 2019 1:35 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top