चीन ने खोला राज, इस वजह से किया मसूद अज़हर मामले में वीटो

नई दिल्ली (एजेंसी) : जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अज़हर को वैश्विक आतंकवादी घोषित किए जाने में अड़ंगा लगाने के बाद चीन अब अपनी सफाई दे रहा है. चीन ने कहा कि प्रस्ताव पारित न होने के कारण अब भारत और पाकिस्तान को मसले को बातचीत से सुलझाने में मदद मिलेगी. लेकिन जब यह पूछा गया कि चीन ने मसूद को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने में वीटो क्यों किया तो चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लु कांग ने कहा कि यह फैसला चीन ने समिति के नियमों के अनुसार लिया गया है.

उन्होंने कहा कि चीन को ‘वास्तव में यह उम्मीद है कि इस समिति के प्रासंगिक कदम संबंधित देशों की मदद करेंगे कि वे बातचीत करेंगे ताकि क्षेत्रीय शांति व स्थिरता के लिए और जटिलता पैदा न हो.’ लु ने कहा, ‘जहां तक 1267 समिति में तकनीकी रोक की बात है, तो हमने यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाया है कि समिति के पास मामले के अध्ययन के लिए उचित समय हो और संबंधित पक्षों को बातचीत के लिए समय मिल सके.’

चीनी प्रवक्ता ने कहा, ‘इस मामले का स्थाई समाधान वही हो सकता है जो सभी पक्षों को स्वीकार्य हो. चीन इस मामले से उचित तरीके से निपटने के लिए भारत सहित सभी पक्षों से बातचीत और समन्वय के लिए तैयार है.’ हालांकि, भारत ने चीन के इस कदम को निराशाजनक बताया है. बता दें कि चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में मसूद को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने संबंधी प्रस्ताव पर बुधवार को वीटो कर दिया था. दरअसल, फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की ‘1267 अल कायदा प्रतिबंध समिति’ के तहत मसूद को आतंकवादी घोषित करने का प्रस्ताव 27 फरवरी को पेश किया था. जो कि चीन के वीटो की वजह से पारित नहीं हो सका.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *