Home > राष्ट्रीय > मानसून की दोबारा वापसी पर पूर्वानुमान से भी ज्यादा भीगा देश

मानसून की दोबारा वापसी पर पूर्वानुमान से भी ज्यादा भीगा देश

मानसून की दोबारा वापसी पर पूर्वानुमान से भी ज्यादा भीगा देश
X

नई दिल्‍ली, ब्यूरो | मानसून के तेवर देखकर मौसम विभाग ने एक बार फिर से पूर्वानुमान लगा दिए हैं। मौसम विभाग का कहना है कि मानसून 10 अक्तूबर से एक बार फिर वापसी करेगा। पिछले 25 साल के आंकड़ों को देखा जाए तो इस वर्ष के मानसून ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। वही देखा जाए तो इस बार मौसम विभाग भी पूर्वानुमान लगाने में विफल रहा है। हर बार गलत पूर्वानुमान साबित हुए हैं। मानसून की सबसे बड़ी मार इस बार बिहार को पड़ी है। बिहार का आधा भाग अभी भी पूर्ण रूप से जलमग्न है तथा आधे भाग में सूखा पड़ा है। अगस्त से लेकर अभी तक के पूर्वानुमानों को देखा जाए तो हर बार अनुमानित आंकड़ों से ज्यादा बारिश हुई है तथा उम्मीद से ज्यादा तबाही मचा कर गयी है।मौसम वैज्ञानिकों ने मानसूनी वर्षा की मात्रा का सही अनुमान लगाने के लिए भारतीय मौसम विभाग के गतिशील मानसून मॉडल की अक्षमता पर आश्यर्य व्यक्त किया। उनका मानना है कि मौसम विभाग दो मौसमी हालातों के आकलन में विफल रहा। यह ऐसी मौसमी परिस्थिति है जो भारत में निश्चित तापमान के आधार संकेत देती है कि मानसून कैसा रहने वाला है। जुलाई के अंत में ये हालात अगस्त और सितंबर में भारी बरसात होने के अनुकूल थे। यह संकेत दे रहा था कि अगस्त और सितंबर में मानसून जबरदस्त रहने वाला है, लेकिन आइएमडी इसे समझने में विफल रहा।

Updated : 5 Oct 2019 1:32 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top