Home > राज्यवार > दिल्ली > बेटे से कम नहीं है बेटी : धूपड़

बेटे से कम नहीं है बेटी : धूपड़

बेटे से कम नहीं है बेटी : धूपड़
X

संतोष कुमारनई दिल्ली। बेटे हो या बेटी माता पिता के लिए दोनों का दर्जा बराबर है, क्योंकि दोनों एक ही माता- पिता की संतान है। भरत धूपड, सदस्य, राष्ट्रीय कार्यसमिति, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओबाबा साहब भीमराव अंबेडकर ने भी संविधान में पुत्र/पुत्री, महिला और पुरुष में समानता का अधिकार दिया है। लेकिन दुख की बात है कि आज के परिवेश में लोग संवैधानिक अधिकार को भूलकर पुत्र-पुत्री और महिला-पुरुष में भेदभाव उत्पन्न कर रहे हैं। इससे समाज सवरेगा नहीं बल्कि बिगड़ेगा।अगर समाज में इस तरह की कुरीतियाँ रोकना है एवं समाज देश को एक नई ऊंचाइयों पर ले कर जाना चाहते हैं तो समाज में समानता का अधिकार लागू करना होगा।यह बात भाजपा के 'बेटी बचाओ - बेटी पढ़ाओ' के राष्ट्रीय कार्यसमिति के सदस्य भारत धूपर ने एक छोटी सी भेंट-मुलाकात के दौरान कहीं।उन्होंने आगे बताया कि इतिहास में झांक कर देखें तो लक्ष्मीबाई, मदर टेरेसा, सुनीता विलियम्स एवं कई महिलाएं, पुरुष से 10 कदम आगे चल कर समाज व देश का नाम रौशन किया है।यही कारण है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ' योजना की शुरुआत किया। इस योजना के तहत देश के सभी वर्गों के बेटी को शिक्षित व सामर्थ बनाना है जो कि बहुत हद तक सफल हो रहा है।

Updated : 10 Oct 2018 5:07 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top