Top
Home > प्रमुख ख़बरें > दिल्ली के मंच पर वैश्विक कलाकारों ने जमाया रंग

दिल्ली के मंच पर वैश्विक कलाकारों ने जमाया रंग

दिल्ली के मंच पर वैश्विक कलाकारों ने जमाया रंग
X

आयोजना ¦ दिल्ली ब्यूरोदिल्ली के उत्साही दर्शकों के सामने अपनी कला का प्र्रदर्शन करने के लिए दुनिया भर के बेहतरीन कलाकार एक बार फिर राजधानी में जुटे. मौका था 12वें दिल्ली अंतर्राष्ट्रीय कला महोत्सव (डी.आई.ए.एफ.) का, जो 1 से 10 दिसंबर 2018 के बीच आयोजित हुआ. ऐतिहासिक पुराना किला में लॉन्च हुए इस महोत्सव में कोरिया, चीन और श्रीलंका से आए कलाकारों का शानदार परफॉर्मेंस देख दर्शक रोमांचित और मंत्रमुग्ध हो उठे. इस भव्य महोत्सव का आयोजन ‘फार्म फॉर आर्ट’ द्वारा 30 से अधिक स्थानों पर आयोजित किया गया. यह एक पंजीकृत गैर लाभकारी और गैर सरकारी ट्रस्ट है, जो कला और संस्कृति के क्षेत्र में काम कर रहा है.ओपनिंग दक्षिण कोरिया के कलाकारों द्वारा हुई. शंघाई से आए चीनी ड्रम ओपेरा के कलाकारों ने पहला डांस ड्रामा प्रस्तुत किया. भारत के अकरम खान की रोमांचक प्रस्तुति देखने लायक थी. इसके अलावा फिल्म स्क्रीनिंग, टॉकशो, सेमिनार, लोकनृत्य आदि कार्यक्रम हुए. डी.आई.ए.एफ. 2018 का समापन कुम्भ मेला विषय पर प्रस्तुति के साथ हुई, जिसे यूनेस्को द्वारा विश्व विरासत का दर्जा मिला हुआ है. इस दौरान विभिन्न धर्मों के आध्यात्मिक नेता भी मौजूद रहे. लोगों को उनके अमृत वचन भी सुनने को मिले.इनमें स्वामी अवधेशानंद गिरि, स्वामी परमानंद, स्वामी चिदानंद सरस्वती, स्वामी श्रीवत्स गोस्वामी, रिनपोचे ताई रितुपा, रेवरेड विकास मारने और डॉ. श्याम अहमद प्रमुख नाम हैं. प्रसिद्ध नृत्य गुरु पद्मश्री प्रतिभा प्रह्लाद ने इस फेस्टिवल की संकल्पना की है. इस मौके पर उनको पोस्टल स्टैम्प से सम्मानित किया गया. डी.आई.ए.एफ. का मुख्य उद्देश्य देश की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और विविध सांस्कृतिक परंपराओं को फिर से स्थापित करना है, साथ ही दुनिया भर के कलाकारों को आमंत्रित करना भी है. इसकी स्थापना प्रतिभा प्रह्लाद ने की थी. एक बहुमुखी व्यक्तित्व व एक कलाकार, शिक्षक, कोरियोग्राफर, शोधकर्ता, सांस्कृतिक दूरदर्शी, कला प्रशासक और एक नारीवादी कार्यकर्ता. कला के क्षेत्र में उनका उनका योगदान अक्षुण्य है.संस्था की निदेशक प्रतिभा प्रहलाद कहती हैं, कला संवेदना दर्शाने, आपस में सामंजस्य बिठाने और लोगों और देशों को एकजुट करने का काम करती है. डी.आई.ए.एफ. वसुधैव कुटुम्बकम की इसी अवधारणा को पोषित करता है.

Updated : 10 Dec 2018 5:16 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top