Home > राज्यवार > दिल्ली > अरविंद केजरीवाल का ऐलान- अगले दो साल में छह राज्यों में चुनाव लड़ेगी आम आदमी पार्टी

अरविंद केजरीवाल का ऐलान- अगले दो साल में छह राज्यों में चुनाव लड़ेगी आम आदमी पार्टी

सीएम केजरीवाल ने कहा कि उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, गुजरात, पंजाब और गोवा में आम आदमी पार्टी चुनाव लड़ेगी।

अरविंद केजरीवाल का ऐलान- अगले दो साल में छह राज्यों में चुनाव लड़ेगी आम आदमी पार्टी
X

उदय सर्वोदय

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को पार्टी की 9वीं राष्ट्रीय परिषद की बैठक को संबोधित करते हुए बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी आने वाले दो साल में सभी राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव लड़ेगी। सीएम केजरीवाल ने कहा कि उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, गुजरात, पंजाब और गोवा में आम आदमी पार्टी चुनाव लड़ेगी।

काउंसिल की बैठक में केजरीवाल ने कहा, ''देश भर के लोग दिल्ली में आप के सुशासन की बात कर रहे हैं। देश में हर जगह, लोग दिल्ली की तरह बिजली और पानी की सब्सिडी और कल्याणकारी योजनाएं चाहते हैं। हमें दूरियां मिटाने की जरूरत है। इसके लिए, हमें एक मजबूत संगठन बनाने की जरूरत है... अगले दो वर्षों में, हमारी पार्टी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और गुजरात में चुनाव लड़ेगी। लोग तैयार हैं और अब हमें सिर्फ उनके पास पहुंचना है।''

दिल्ली में आम आदमी पार्टी को मजबूत आधार देने के बाद अब अरविंद केजरीवाल की नजर देश के अन्य राज्यों की ओर है। इसी के तहत पार्टी ने अपने बड़े नेताओं को आने वाले चुनावों के मद्देनजर जिम्मेदारियां देना शुरू कर दिया है। राघव चड्ढा को पंजाब, आतिशी मार्लेना को गुजरात में पार्टी के विस्तार की जिम्मेदार दी गयी है। इसके साथ ही दिल्ली में विधायक दिनेश मोहनिया को उत्तराखंड का इंचार्ज बनाया गया है। इन सभी राज्यों में 2022 में चुनाव होने हैं।

किसानों पर फर्जी केस लगाए जा रहे

बैठक में अरविंद केजरीवाल ने किसान आंदोलन और दिल्ली में हिंसा को लेकर भी खुलकर बात की। केजरीवाल ने कहा, ''आजकल देश का किसान बहुत दुःखी है। 70 साल से सभी पार्टियों ने मिलकर किसानों को धोखा दिया है। किसी ने किसानों की सुधि नहीं ली। पिछले 25 साल में साढ़े 3 लाख किसान आत्महत्या कर चुके हैं। नए किसान बिल से किसानों की खेती छीनकर पूंजीपतियों को देने की तैयारी है। 26 जनवरी को हुई हिंसा दुर्भाग्यपूर्ण थी। किसानों पर फर्जी केस लगाए जा रहे हैं। जो पार्टी जिम्मेदार है उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई हो। जो कुछ भी उस दिन हुआ उससे यह आंदोलन खत्म नहीं हो सकता। हम सब लोगों को मिलकर किसानों का शांतिपूर्वक साथ देना है।''

केजरीवाल ने पार्टी कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा कि जब भी किसानों के साथ जाएँ अपना झंडा और टोपी छोड़कर जाएं, उनके पास आम नागरिक बनकर जाएं वहां कोई राजनीति नहीं करनी है।

किसान अगर सड़क पर नहीं उतरेगा तो किसानी नहीं बचेगी

केजरीवाल ने कहा, "अब ये जो तीनों बिल आए हैं, ये तीनों बिल एक तरह से किसानों से उनकी खेती छीन के इन दो-चार पूंजीपतियों को सौंप देंगे। तो अब किसानों के लिए अस्तित्वक का सवाल है। अब अगर सड़क पर नहीं उतरेगा तो किसानी नहीं बचेगी। और अगर किसानी नहीं बचेगी तो बेचारा किसान जाएगा कहां। वह अपने परिवार को कैसे पालेगा। मैं कई बार सोचता हूं कि इतनी ठंड के अंदर किसान कैसे बैठे हैं। वो इसीलिए बैठे हैं कि नहीं बैठेंगे तो कुछ बचेगा ही नहीं।"

यूपी में स्कूलों की हालत बहुत खराब

पार्टी की 9वीं राष्ट्रीय परिषद की बैठक को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने यूपी सरकार को भी घेरा। उन्होने कहा, 'यूपी के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने मनीष सिसोदिया जी को चुनौती दी कि आए और हमारे साथ बहस करें। जब मनीष जी पहुंचे तो वो भाग खड़े हुए। इन्होंने काम किया ही नहीं। जब मनीष जी स्कूल देखने के लिए गए तो पुलिस ने उन्हें वही रोक लिया। इससे पता चलता है कि स्कूल की ज़्यादा हालत खराब है, जिस स्कूल को उन्हें दिखाने में डर लग रहा वहां हमारे करोड़ो बच्चे पढ़ रहे हैं।'

Updated : 28 Jan 2021 8:18 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top