Top
Home > प्रमुख ख़बरें > धरातल पर काम की शुरुआत के बाद ही रूकेगा मत बहिष्कार आंदोलन 

धरातल पर काम की शुरुआत के बाद ही रूकेगा मत बहिष्कार आंदोलन 

धरातल पर काम की शुरुआत के बाद ही रूकेगा मत बहिष्कार आंदोलन 
X

फुलपरास -

भूतही बलान से पीड़ित 56 गांवों की मत बहिष्कार आंदोलन धरातल पर काम की शुरुआत के बावजूद ही रूकेगी। गुरूवार को परसा के धबहा परती पर आयोजित आम सभा में यह निर्णय लिया गया जिसमें हजारों की संख्या आम जनता मौजूद थे। मालूम हो कि पिछले दिनों सुड़ियाही में आम सभा बुलाकर 56 गांवों की जनता ने आगामी 2019 आम चुनाव का बहिष्कार करने का निर्णय लिया था। इसके तीन दिन के बाद ही प्रसिद्ध रणनीतिकार व जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने आंदोलनकारियों को फोन करके पटना के 7 सर्कूलर रोड मुख्यमंत्री आवास पर बुलाए थे। इसके बाद सात सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल जाकर मुलाकात किया था। इस दौरान प्रशांत किशोर ने क्षेत्रीय समस्याएं समझने के बाद संबंधित मंत्री से फोन करके एवं आवेदन भेजकर समस्या का समाधान हेतु निर्देश दिए थे।
56 गांव की समस्याओं को लेकर आगे आए प्रशांत किशोर
वरिष्ठ पत्रकार संतोष कुमार ने जानकारी देते हुए बताया की इस आम सभा में प्रशांत किशोर के साथ हुई बातचीत जनता के समक्ष रखा गया एवं आगे की रणनीति पर विचार-विमर्श किया गया। आम सभा में सामूहिक निर्णय लिया गया की जबतक धरातल पर क्षेत्रीय समस्याए व मुख्य मांगे को पुरा करने हेतु काम की शुरुआत नहीं हो जातीं तब तक किसी के भी आश्वासन पर आंदोलन नहीं रूकेगी बल्कि आंदोलन को तेज किया जाएगा।
भूतही बलान की जनता करेगी चुनाव का बहिष्कार
क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं को लेकर दिल्ली में एक दिवसीय धरना प्रदर्शन का आयोजन 16 दिसम्बर को तय किया गया जिसमें ढाई हजार लोगों की उपस्थित होने की संभावना है। इस आमसभा में मुख्य रूप से संतोष कुमार, संतोष राज, कन्हैया झा, पप्पू कुमार, जय प्रकाश कामत, शंम्भू नाथ झा, प्रवीण कामत, चंदन कामत, प्रमोद कामत, कामेशवर यादव, खुशी लाल कामत, वासिल मंजूरी,.कृष्ण कुमार मिश्र अपने विचार रखे।

Updated : 29 Nov 2018 11:27 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top