Home > राज्यवार > दिल्ली > दिवाली से पहले ही दिल्ली में तेजी से फ़ैल रहा वायु प्रदुषण

दिवाली से पहले ही दिल्ली में तेजी से फ़ैल रहा वायु प्रदुषण

दिवाली से पहले ही दिल्ली में तेजी से फ़ैल रहा वायु प्रदुषण
X

दिल्ली, ब्यूरो | उत्तर भारत से मानसून के लगातार बने रहने के कारण दिल्ली के वातावरण पर बहुत ही बुरा असर पद रहा है। पर्यावरण विभाग की जानकारी के अनुसार इस महीने में दिल्ली की आबोहवा में बहुत ही तेजी से गिरावट आने की आशंका जताई जा रही है। ऐसे में दिल्ली का जल्दी ही गैस चेंबर में तब्दील हो जाना कोई हैरानी की बात नहीं है। वायु के वेग के कारण दिल्ली के पड़ोसी राज्यों में जलने वाले पुआल तथा त्यौहार के दौरान जलने वाले पटाखों के कारण दिल्ली के वातावरण पर बहुत ही बुरा असर पड़ने लगा है। स्थानीय स्तर पर होने वाला वायु प्रदुषण भी इसमें अपनी अहम् भूमिका निभा रहा है।सिस्टम ऑफ़ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च ने आने वाले अगले 15 दिनों का पूर्वानुमान लगाया है। इस पूर्वानुमान में उन्होंने कहा है कि हमेशा मानसून सितम्बर के महीने तक ख़त्म हो जाता है लेकिन इस साल मानसून के पूरे 40 दिन की देरी से आने के कारण मानसून अपना पूरा समय ले रहा है। अगले कुछ दिनों में ही मानसून के जाने की आशंका है। मानसून के जाने में हो रही यह देरी दिल्ली के वातावरण के लिए बहुत बुरा संकेत दे रही है। 15 अक्टूबर के बाद से ही मौसम का तापमान गिरना शुरू होगा। मानसून के चले जाने के बाद दिल्ली में चक्रवात जैसी स्थितियां भी बनेंगी। इस सब से धरती की सतह पर चलने वाली हवाएं शांत रहेंगी। इस सब से वायु प्रदुषण का स्तर तेजी से बढ़ने लगेगा। इसके ऊपर से पड़ोसी राज्यों में जलने वाला पुआल तथा दिवाली के दौरान जलने वाले पटाखे आग में घी डालने जैसा कार्य करेंगे। इस से वायु की गुणवत्ता में लगातार कमी बनी रहेगी। अगर स्थानीय कारकों पर सरकार रोक लगाने में सफल हुई तो ये नुकसान थोडा कम हो सकता है।

Updated : 10 Oct 2019 10:17 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top