Home > राज्यवार > दिल्ली > पहले कीर्तिनगर और अब तुगलकाबाद में भीषण आग, 1500 झुग्गियां खाक

पहले कीर्तिनगर और अब तुगलकाबाद में भीषण आग, 1500 झुग्गियां खाक

पहले कीर्तिनगर और अब तुगलकाबाद में भीषण आग, 1500 झुग्गियां खाक
X

ब्यूरो रिपोर्ट

नई दिल्ली: राजधानी के दक्षिणमें स्थित तुगलकाबाद इलाके में बीती रात भीषण आग की घटना सामने आई। आग लगने की वजह सेकरीब 1500 झुग्गियां जलकर राख हो गई हैं और सैकड़ों लोग बेघर हो गए हैं।पिछले हफ्ते दिल्ली के ही कीर्तिनगर में भी झुग्गियों में भीषणआग लग गई थी।

हालांकि तुगलकाबाद इलाके में हुए इस हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ है। दमकल विभाग के मुताबिक, आग लगने की सूचना रात करीब 12:50 बजे मिली। भीषण आग को देखते हुए दमकल की 28 गाड़ियों को मौके पर भेजा गया, लेकिन देखते ही देखते आग 2 एकड़ इलाके में फैल गई।

पुलिस और दमकल विभाग ने झुग्गी में रह रहे सभी लोगों को समयरहते बाहर निकाल लिया। देर रात होने से ज्यादातर लोग सो रहे थे। इस घटना में कोईघायल नहीं हुआ। आग पर सुबह तड़के करीब 3:40 बजे काबू पाया गया, लेकिन तब तक करीब 1500 झुग्गियां जल चुकी थीं औरसैकड़ों लोग बेघर हो गए। फिलहाल सरकार नुकसान का आकलन कर रही है।

दक्षिण पूर्वी दिल्ली के डीसीपी राजेंद्र प्रसाद मीणा ने बताया,"हमें रात के करीब एक बजे आग लगने की सूचना प्राप्त हुई। आग पर काबू पाने केलिए 18-20 दमकल वाहनों को लगाया गया था। फिलहाल किसी के भी हताहत होनेकी जानकारी नहीं मिली है।"

बताया जा रहा है कि आग सिलेंडर फटने के कारण लगी थी। एक के बाद एक सिलेंडर फटने से आग तेजी से फैलगई।

चंद रोज पहले दिल्ली की कीर्तिनगर स्थितझुग्गी बस्तियों में भीषण आग लगने से हड़कंप मच गया था। कीर्तिनगर के चुनाभट्टी जेजे क्लस्टर स्लम एरिया में भीषणआग लगी, जहां 20 हजार से ज्यादा मजदूर रहते हैं। हालांकि वहाँ भी किसी के हताहत होने की खबर नहीं आई। पुलिस और फायर बिग्रेड ने मौके पर पहुंचकर स्थिति कोकंट्रोल कर लिया। झुग्गियों में रखे सिलिंडर ब्लास्ट होने से आग ने और विकराल रूपले लिया था। देखा जाए तो दोनों घटनाएं लगभग एक जैसी हैं।

वर्तमान कोरोना संकट के बीच यह बहुत ही दुखद खबर हैं। झुग्गियोंमें रहने वाले ज़्यादातर लोग श्रमिक वर्ग के होते हैं। वे पहले बेघर होते हैं और फिरबेरोजगार। ग़रीब हर हाल में मरता है, लॉकडाउन हो या आग।

इन झुग्गियों के लिए इतना हीकहेंगे...

इस बस्ती में कौन हमारे आँसू पोंछेगा,
जो मिलता है उसका दामन भीगा लगता है।

Updated : 26 May 2020 5:07 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top