Home > राज्यवार > बिहार > भूख से हो रही मौतों की जिम्मेदार है सरकार : शम्स शाहनवाज़

भूख से हो रही मौतों की जिम्मेदार है सरकार : शम्स शाहनवाज़

भूख से हो रही मौतों की जिम्मेदार है सरकार : शम्स शाहनवाज़
X

  • कोरोना महामारी अधिकारियों के लिए बना लूट-खसोट का जरिया
  • मोदी सरकार की अदूरदर्शिता पड़ी देश की जनता पर भारी

ब्यूरो रिपोर्ट

सीतामढ़ी (बिहार)। बिना किसी तैयारी के सरकार के द्वारा अचानक से लिया गया लॉक डाउन का फैसला बिल्कुल भी सही नहीं था। लॉक डाउन के कारण कोरोना के प्रसार में कोई कमी तो नहीं आई, उल्टे भूख से त्रस्त होकर कई लोगों की मौत जरूर हो गई है। इसकी एकमात्र जिम्मेदार नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चल रही केंद्र की सरकार है। यह कहना है सीतामढ़ी जिला युवा कांग्रेस अध्यक्ष मो.शम्स शाहनवाज़ का।

उन्होंने कहा कि लॉक डाउन किए जाने से पूर्व विशेष ट्रेनें चलाकर श्रमिकों को उनके घरों पर भेज देने की आवश्यकता थी, लेकिन सरकार को श्रमिक-मज़दूरों की चिंता नहीं थी। और उन्हें हजारों किलोमीटर का लंबा सफर पैदल तय करने के लिए सड़कों पर बेसहारा छोड़ दिया गया। सरकार के पास जब श्रमिकों के लिए कोई व्यवस्था नहीं थी तो फिर तमाम तरह के झूठे दावे करने की कोई आवश्यकता भी नहीं थी। सुप्रीम कोर्ट ने भी स्वतः संज्ञान लेकर श्रमिकों एवं मज़दूरों के मामले में सरकार को जमकर फटकार लगाई है।

Sharamik

शम्स ने कहा कि कोरोना महामारी को लेकर देश में लॉकडाउन लागू कर दिया गया एवं सख्ती से इसका अनुपालन करने का केन्द्र सरकार द्वारा फरमान जारी किया गया। अब लॉकडाउन का चौथा चरण अपने अंतिम पड़ाव पर है, लेकिन संक्रमण का मामला घटने की बजाय बढ़ता ही जा रहा है।

अफसोस की बात यह है कि सूबे की सरकार द्वारा बसों एवं ट्रेनों में प्रवासियों को भूसा के बोरे की तरह ढ़ोया जा रहा है। ऐसे में अब कहाँ गया सोशल और फ़िजिकल डिस्टेंस? पंचायत से लेकर जिला तक देश मे क्वरंटाइन सेंटर बना दिया गया है। जहाँ सोशल डिस्टेंस का कोई पालन नहीं हो रहा है। इतना ही नहीं अधिकांश क्वरंटाइन सेंटर में अनियमितता की शिकायतें मिल रही हैं, जिसे दुरुस्त करने की बजाय प्रशासन खबर को दबाने में व्यस्त है। अधिकारी फोन नहीं उठा रहे और उठाते हैं तो फण्ड की कमी का रोना रो रहे हैं।

Sharamik

शम्स ने आरोप लगाया कि यह आपदा अधिकारियों के लिए लूट-खसोट का जरिया बन गया है। केंद्र व सूबे की नीतीश सरकार लॉक डाउन के दौरान लोगों की मदद करने में पूरी तरह से विफल होने के बावजूद खुद अपनी पीठ थपथपा रही है। ऐसे में देश की जनता सरकार की मंशा को समझ चुकी है तथा आगे आने वाले समय में गरीब विरोधी सरकार को उखाड़ कर फेंकने का काम करेगी।

Updated : 27 May 2020 10:51 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top