Home > राष्ट्रीय > 1 लाख 65 हज़ार लोगों की नौकरी खतरे में, BSNL-MTNL को बेचने जा रही सरकार

1 लाख 65 हज़ार लोगों की नौकरी खतरे में, BSNL-MTNL को बेचने जा रही सरकार

1 लाख 65 हज़ार लोगों की नौकरी खतरे में, BSNL-MTNL को बेचने जा रही सरकार
X

दिल्ली, ब्यूरो | देश में जब नेटवर्किंग की कोई कम्पनी नहीं थी तब भारत ने BSNL को स्थापित किया था। इसका नेटवर्क देश के कोने कोने में था। धीरे धीरे प्राइवेट सर्विस वालों ने भी अपना काम ज़माना शुरू किया । लोगों ने बीएसएनएल की जगह प्राइवेट सर्विसेज लेना शुरू कर दिया। इसी के साथ बीएसएनएल का साथी है MTNL जो कि ब्रॉडबंद की सर्विस देता है । यहाँ भी लोगों प्राइवेट सेवाएं लेनी शुरू कर दी। इस से दोनों का काम मंदा पड़ने में जरा भी वक्त नहीं लगा। 90 के दशक में पैदा हुए लो तो इसे जानते होंगे लेकिन आज के जमाने के बच्चे को शायद ही इन कंपनियों को जानते होंगे । प्राइवेट सर्विस देने वालों ने अपने काम को बहुत ही कम समय में इतना जमा लिया कि इन दोनों कंपनियों पर टाला तक लगाने की नौबत आ गयी है ।इतना सब कुछ हो जाने के बाद वित्त मंत्रालय ने BSNL और MTNL को बंद करने का प्रस्ताव रखा है। कुछ समय पहले तक दूरसंचार मंत्रालय इन दोनों कंपनियों के लिए नया पैकेज लाने की सोच रहा था, लेकिन वित्त मंत्रालय ने कहा है कि 74 हज़ार करोड़ रुपए लगाकर इन कंपनियों को दोबारा खड़ा करने से बेहतर है कि 95 हज़ार करोड़ लगाकर दोनों कंपनियों को बंद कर दिया जाए। दोनों कम्पनियों के कर्मचारियों की संख्या वर्तमान में एक लाख पेंसठ हज़ार है । ऐसे में यदि सरकार इन कम्पनियों को बेचती है तो इन लोगों की जेबों तथा जीवन पर बहुत बुरा असर पड़ेगा । सरकार को इस ये फैसला लेने से पहले वहां कार्यरत कर्मचारियों के बारे में सोचना चाहिए ।

Updated : 10 Oct 2019 12:11 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top