Top
Home > प्रमुख ख़बरें > मैं हिंदू धर्म में विश्वास करती हूं, इसलिए सिंदूर लगाती हूं

मैं हिंदू धर्म में विश्वास करती हूं, इसलिए सिंदूर लगाती हूं

मैं हिंदू धर्म में विश्वास करती हूं, इसलिए सिंदूर लगाती हूं
X

कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने कुछ दिनों पहले अपने गोत्र का खुलासा किया था। उन्होंने बताया कि वह कौल ब्राह्मण हैं। उनके इस खुलासे के बाद से हर जगह यह चर्चा होने लगी थी कि उनके दादा फिरोज गांधी, जो कि पारसी थे, उनके वंशज राहुल गांधी कौल ब्राह्मण कैसे हो सकते हैं? हां, इस बात में कोई अपवाद नहीं है कि राहुल के नाना और पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू जरूर कौल ब्राह्मण थे। खैर, राहुल गांधी के बाद अब केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी भी गोत्र बताने वाले वाद-विवाद में शामिल हो गई हैं। स्मृति ईरानी से ट्विटर पर उनके, उनके पति और बच्चों के गोत्र पूछे जाने के बाद उन्होंने यह खुलासा किया। स्मृति ने बताया कि उनके पिता हिंदू थे और उनका गोत्र कौशल था। इस वजह से उनका भी गोत्र कौशल है। उन्होंने बताया कि उनके पति और बच्चे पारसी हैं, इसलिए उनका कोई गोत्र नहीं है।

“आयुष्मान भारत” से प्रेरणा ले रहें हैं युवा

स्मृति ईरानी ने ट्विटर पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा, ’मेरा गोत्र कौशल है, जैसा कि मेरे पिता का है, उनके पिता का है और उनके पिता का है… मेरे पति और बच्चे पारसी हैं, इसलिए उनका गोत्र नहीं है। मैं हिंदू धर्म में विश्वास करती हूं, इसलिए सिंदूर लगाती हूं।’7 दिसंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरे के लिए राहुल गांधी राजस्थान के पुष्कर के ब्रह्मा जी के मंदिर में पहुंचे थे। मंदिर में बैठे पुजारी ने राहुल गांधी के गोत्र का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि राहुल गांधी का गोत्र दत्तात्रेय है। दत्तात्रेय कौल होते हैं और कौल कश्मीरी पंडित होते हैं। साथ ही मंदिर के पुजारी ने यह दावा भी किया कि उन्हें मोतीलाल नेहरू, जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, संजय गांधी, मेनका गांधी और सोनिया गांधी के बारे में भी सब जानकारी है।

राहुल-चंद्रबाबू एक मंच पर आएंगे नजर

अमेठी से स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ा था। वह लगातार इस क्षेत्र के दौरे करती रहती हैं। अमेठी के विकास को लेकर वह अक्सर राहुल गांधी पर हमले करती रहती हैं। पिछले दिनों उन्होंने कहा था कि जिन लोगों के संसदीय क्षेत्र में आज भी 80 फीसदी मकान कच्चे हों, उनसे देश विकास की उम्मीद नहीं कर सकता है। माना जा रहा है कि आगामी लोकसभा चुनाव में वह दोबारा अमेठी से चुनाव लड़ सकती हैं।

Updated : 29 Nov 2018 4:26 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top