Home > राष्ट्रीय > 370 पर इस्तीफ़ा देने वाले IAS ने EVM हैक करने का किया दावा

370 पर इस्तीफ़ा देने वाले IAS ने EVM हैक करने का किया दावा

370 पर इस्तीफ़ा देने वाले IAS ने EVM हैक करने का किया दावा
X

दिल्ली, ब्यूरो | कन्नन गोपीनाथन केरल के रहने वाले हैं। अगस्त 2019 में उन्होंने IAS पद से इस्तीफ़ा दे दिया था। इसके पीछे वजह बताई थी कश्मीर घाटी में सरकार द्वारा लगाए गए प्रतिबंध। इन्हीं गोपीनाथन ने अब VVPAT पर्चियों के संदर्भ से जोड़कर EVM की सुरक्षा पर सवाल उठाया है। आमतौर पर ये माना जाता है कि VVPAT की पर्चियां EVM का लिटमस-टेस्ट हैं। इनके सहारे EVM की विश्वसनीयता साबित होती है। ऐसा इसलिए कि VVPAT सिस्टम से पता किया जा सकता है कि हमने EVM पर जिसे वोट दिया, उसे ही वोट गया कि नहीं। मगर पूर्व IAS अधिकारी कन्नन गोपीनाथन को ऐसा नहीं लगता। उनका कहना है कि VVPAT ने EVM को कमज़ोर किया है। कन्नन ने हाल ही में स्वतंत्रता, अभिव्यक्ति की आज़ादी और मूलभूत अधिकार जैसी वजहों को लेकर इस्तीफा दे दिया था। कन्नन गोपीनाथन ने VVPAT के संदर्भ में EVM की सुरक्षा पर सवाल उठाए हैं। 24 सितंबर को उन्होंने कई ट्वीट किए। गोपीनाथन का कहना है कि VVPAT ने EVM की सुरक्षा को कम किया है। इसके डिफेंस सिस्टम में सेंधमारी की है और VVPAT की वजह से हैकिंग का जोखिम पैदा हो गया है। कन्नन ने अपने ट्वीट में लिखा कि -

“आपको EVM के लिए मेरा डिफेंस शायद याद होगा। मैं अभी भी इसके साथ खड़ा हूं मगर VVPAT के साथ मेरे पहले चुनावी अनुभव ने मेरा भरोसा छीन लिया है। VVPAT ने EVM की सुरक्षा में सेंधमारी की है. इसकी वजह से EVM से जुड़ी प्रक्रिया को हैक किए जाने का जोखिम है।”

इस ट्वीट में उन्होंने पूर्व चीफ इलेक्शन कमिश्नर शहाबुद्दीन याकूब कुरैशी, मौजूदा कमिश्नर अशोक लवासा और इलेक्शन कमीशन के आधिकारिक ट्विटर पेज को टैग भी किया है। अभी तक इनमें से किसी ने भी कन्नन के इस ट्वीट पर कोई भी रिप्लाई नहीं किया है। कन्नन ने अपने एक अन्य ट्वीट में कहा कि पद पर रहते हुए उन्होंने दो बार इस पर सवाल उठाया था। ये दो मौके थे, IIIDEM में रिटर्निंग अधिकारियों के साथ ECI ट्रेनिंग के दौरान और फिर ECIL के साथ कमिशनिंग के दौरान। ऐसे में अब वो बिना किसी दुर्भावना के अपनी चिंता बयां कर रहे हैं। उनका कहना है कि VVPAT की व्यवस्था ने EVM की फुल-प्रूफ प्रक्रिया को कमज़ोर बना दिया है और इस पर तत्काल ध्यान दिए जाने की जरूरत है।

Updated : 25 Sep 2019 11:13 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top