ऐतिहासिक धार्मिक स्थलों में जाना चाहते हैं तो चुनें ये जगह-

ऐतिहासिक धार्मिक स्थलों में जाना चाहते हैं तो चुनें ये जगह-

न्यूज़ डेस्क – 

भगवान तो कण-कण में बसे हैं। अगर आप इस लोकोक्ति पर यकीन करते हैं तो फिर हम आपको इसके प्रमाण भी दे देते हैं। अगर आपको सैर करना भाता है लेकिन हर बार आप केवल पहाड़ों या समु्द्रों की सैर करते हैं तो आज हम कुछ ऐसी धार्मिक मान्यताओं वाली जगहों के बारे में बताने जा रहे हैं जहां की सैर करने के बाद आप को ऊपर लिखी लोकोक्ति पर यकीन हो जाएगा। यहां की महिमा सुनकर पूरे भारत से सैलानी दर्शन के लिए आते हैं। तो चलिए जानें वो कौन से धार्मिक स्थल हैं जिनकी यात्रा आपको जिंदगी में एक बार जरूर करनी चाहिए।

  • चित्रकूट, उत्तर प्रदेश

चित्रकूट, उत्तर प्रदेश के लिए इमेज परिणाम

चित्रकूट शहर उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के बीच बसा एक छोटा सा शहर है जिसका भू भाग दोनों प्रदेशों में फैला हुआ है। इस छोटे से शहर में बहुत से मंदिर हैं जिनके दर्शन के लिए सैलानी आते हैं। मान्यता है कि यहां पर चौदह वर्ष के वनवास के बाद राम और उनके भाई भरत का मिलाप हुआ था। इसके साथ ही यहां पर हनुमान जी का एक मंदिर है जिसके बारे में भी कुछ मान्यताए प्रचलित है। इस शहर के कण-कण में भगवान बसे हैं क्योंकि यहां पर धार्मिक आस्थाओं से जुड़ी बहुत सी कथाएं सुनने को मिलेगी।

  • द्वारिका, गुजरात

द्वारका, गुजरात के लिए इमेज परिणाम

गुजरात के द्वारका के बारे में कहा जाता है कि ये शहर भारत के सात प्राचीन शहरों में से एक है। इस शहर को लेकर अनेक धार्मिक मान्यताएं प्रचलित हैं। कहा जाता है कि भगवान श्री कृष्ण की राजधानी थी। इसके साथ ही ये चार धाम में से एक है। इस शहर में बहुत से मंदिर हैं दर्शन करने के लिए। जिनके बारे में अनेक पौराणिक मान्यताएं प्रचलित हैं।

  • दंडकारण्य, छत्तीसगढ़

दंडकारण्य, छत्तीसगढ़ हद इमेज फॉर टूरिस्ट के लिए इमेज परिणाम

बहुत बड़े भू-भाग में फैले इस वन के बारे में कथा प्रचलित है कि रामायण काल में यहीं से रावण ने मां सीता का हरण किया था। इस जगह को देखने आने वालों का सबसे बड़ा कारण यहीं कथा है। ये वन केवल छत्तीसगढ़ ही नहीं बल्कि आंध्र प्रदेश, उड़ीसा, तेलंगाना राज्य में भी फैला हुआ है।

  • देवप्रयाग, उत्तराखंड

देवप्रयाग, उत्तराखंड के लिए इमेज परिणाम

हिंदूओं की आस्था का केंद्र देवप्रयाग भी सैर करने के लिए एक बढ़िया जगह है। कहा जाता है कि यहां पर अलकनंदा नदी भागीरथी से मिलकर गंगा का रूप लेती हैं और फिर यहीं से आगे बढ़ती हैं। ऋषिकेश से 70 किमी दूर बसे इस शहर की सैर करने का मौका मिले तो एक बार जरूर जाएं।

  • हम्पी, कर्नाटक

हम्पी, कर्नाटक के लिए इमेज परिणाम

ऐसे ही एक और शहर के बारे में हम बताने जा रहें हैं जिसकी सैर करने पर आपको इस शहर से जुड़ी पौराणिक मान्यताओं के बारे में सुनने को मिलेगा। हम्पी, ये शहर कर्नाटक राज्य में बसा है और हिंदूओं की गहरी आस्था का केंद्र है। कहते हैं कि रामायण में जिस वानरराज सुग्रीव का जिक्र किया गया है हम्पी वहीं जगह है। इसी जगह पर राम और सुग्रीव के साथ मिलकर रावण के विरुद्ध लड़ाई की योजना बनाई गई थी। इस शहर में इतने प्राचीन मंदिर है कि इसे यूनेस्को ने वर्ल्ड हेरिटेज लिस्ट में शामिल किया है।

Uday Sarvodaya Team

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *