Top
Home > शख्सियत > अमेरिका में जहां स्वामी विवेकानंद ने दिया था भाषण, वहाँ सीढ़ियों पर लिखे हैं उनके विचार

अमेरिका में जहां स्वामी विवेकानंद ने दिया था भाषण, वहाँ सीढ़ियों पर लिखे हैं उनके विचार

अमेरिका में जहां स्वामी विवेकानंद ने दिया था भाषण, वहाँ सीढ़ियों पर लिखे हैं उनके विचार
X

स्वामी विवेकानंद ने 11 सितंबर, 1893 को अमेरिका के शिकागो में ऐसा भाषण दिया था, जिसने दुनिया को बता दिया कि वेदांत के बारे में भारत से बेहतर कोई नहीं जानता। विश्व धर्म सम्मेलन में उन्होंने यह चर्चित भाषण दिया था, जिसमें उन्होने सम्बोधन की शुरुआत में कहा था- ‘मेरे प्यारे अमेरिकी भाइयों और बहनों!’

जब भी स्वामी जी का जिक्र आता है, तो उनके इस भाषण की चर्चा होना स्वाभाविक है। उनके इस भाषण के बरक्स शिकागो आर्ट इंस्टीट्यूट की सीढ़ियों पर स्वामी जी के 473 शब्द आज भी लिखे हुए हैं। आप देख सकते हैं कि इस तस्वीर में वो भाषण, जो स्वामी जी ने दिया था। स्वामी जी के विचार सीढ़ियों पर लिखे हैं, ताकि इस राह पर बढ़ने वाला हर शख्स उनके विचार जान सके और अपना सफर तय कर सके। सीढियों के फोटो को ट्वीट करते हुए आईएफएस ऑफिसर परवीन कासवान ने अपने विचार रखे हैं।



अभी कल ही (4 जुलाई) हमने स्वामी जी की पुण्य तिथि को ‘विवेकानंद स्मृति दिवस’ के रूप में मनाया। वे बचपन से ही तीव्र बुद्धि के धनी थे। इनके घर का नाम नरेंद्रदत्त था। उनका जन्म 12 जनवरी 1863 कोकोलकाता में हुआ था। 1897 में मानवता की सेवा के लिए�स्वामी विवेकानंद ने रामकृष्ण मिशन की स्थापना की थी। इसकानाम विवेकानंद ने अपने गुरु रामकृष्ण परमहंस के नाम पर रखा था।

अमेरिका के शिकागों मेंधर्म सभा में इन्होंने धाराप्रवाह भाषण दिया था। जिसकी वजह से ये अंर्तराष्ट्रीयसुर्खियों में रहे। अपने जोशपूर्ण और बेबाक भाषणों�के कारण विवेकानंद युवाओं में काफी लोकप्रिय थे। लेकिन 39साल की कम उम्र में ही इनका निधन हो गया था। 4 जुलाई 1992 को स्वामी विवेकानंद कीमृत्यु हो गई थी।

इनके दिए गए संदेश आज भीयुवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत हैं। इनके संदेश युवाओं में एक नया जोश भर देते हैं। हर साल 4 जुलाई�को स्वामी विवेकानंद स्मृति दिवस के रूप में मनाया जाता है।

Updated : 5 July 2020 9:34 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top