Top
Home > राज्यवार > मध्य-प्रदेश में इस मदरसे में सिखाया जाता है गाय की सेवा करना

मध्य-प्रदेश में इस मदरसे में सिखाया जाता है गाय की सेवा करना

मध्य-प्रदेश में इस मदरसे में सिखाया जाता है गाय की सेवा करना
X

मध्य-प्रदेश, ब्यूरो | देशभर में गौ माता के ऊपर राजनीति तो कई लोग करते हैं पर यहाँ कुछ ऐसे लोग भी मौजूद हैं जो बिना राजनीति के बिना किसी स्वार्थ के गौ माता की सेवा कर रहे हैं। जी हाँ मध्यप्रदेश में स्थित भोपाल के दारुल उलूम हुसैनिया मदरसे में बनी है एक गौशाला। ये गौशाला ही इस मदरसे को बाकी के मदरसों से अलग करती है। क्यूंकि यहाँ गाय माता की सेवा करना सिखाया जाता है। मुश्लिम समाज में गाय की सेवा करना कुछ अनोखा सा भी प्रतीत होता है। इस मदरसे में पढ़ाई के साथ साथ गाय की सेवा करना सिखाया जाता है। वर्तमान में इस मदरसे में लगभग 200 छात्र पढाई कर रहे हैं। गाय की सेवा के साथ साथ यहाँ देशभक्ति भी सिखाई जाती है।प्रातः वेला में मदरसे में पढ़ाई होती है, इसके बाद छात्र क्रमानुसार गौशाला में जाकर गाय की सेवा करते हैं। सेवा में गाय को रोटी खिलाना, नहलाना, जंगलों में चराने के लिए ले जाना आदि कार्य किये जाते हैं। साथ ही इन्हीं गायों का दूध मदरसे के छात्रों को पिलाया जाता है। मदरसे के सेक्रेटरी सिफ़ी मुशाहिद उज जमान खान का कहना है कि इन गायों को मदरसे संस्थापक सालों पहले यहाँ लाये थे, उनका कहना था कि गाय पालने का उद्देश्य ये था कि उनके दूध घी से बीमारियों से लड़ने की ताकत मिलती है। तबसे आज तक गाय की हर प्रकार की नस्ल की इस मदरसे में सामान रूप से सेवा की जाती है।

Updated : 19 Oct 2019 3:22 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top