Top
Home > अंतर्राष्ट्रीय > भारत आएंगे जॉन कैरी लेकिन पाकिस्‍तान नहीं जाएंगे

भारत आएंगे जॉन कैरी लेकिन पाकिस्‍तान नहीं जाएंगे

अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडेन के जलवायु परिवर्तन पर व‍िशेष दूत जॉन केरी भारत और बांग्‍लादेश आ रहे हैं लेकिन उनका इस्‍लामाबाद जाने का कोई कार्यक्रम नहीं है।

भारत आएंगे जॉन कैरी लेकिन पाकिस्‍तान नहीं जाएंगे
X

एजेंसी

वॉशिंगटन : अमेरिका के जो बाइडेन प्रशासन ने पाकिस्‍तान को करारा झटका दिया है। जलवायु परिवर्तन पर अमेरिकी राष्‍ट्रपति के विशेष दूत जॉन कैरी भारत, बांग्‍लादेश की यात्रा करेंगे लेकिन इस महासंकट से सर्वाधिक जूझ रहे देशों में शामिल पाकिस्‍तान नहीं जाएंगे। जानकारी के मुताबिक कैरी जलवायु संकट पर चर्चा करने के लिए एक से नौ अप्रैल के बीच भारत, बांग्लादेश और यूएई की यात्रा पर जाएंगे।

पाकिस्‍तानी अखबार डॉन के मुताबिक केरी के पाकिस्‍तान नहीं आने और जलवायु परिवर्तन पर शिखर सम्‍मेलन में इमरान खान को न्‍योता नहीं देने से कई लोगों की त्योरियां चढ़ गई हैं। लोगों को मानना है कि यह पाकिस्‍तान के लिए बड़ा झटका है। दक्षिण एशियाई मामलों के अमेरिकी विशेषज्ञ माइक कुगेलमैन ने कहा, 'पहले पाकिस्‍तान को वाइट हाउस के वैश्विक जलवायु परिवर्तन शिखर सम्‍मेलन में न्‍यौता नहीं दिया गया। अब अमेरिका के जलवायु दूत जॉन कैरी चर्चा के लिए भारत और बांग्‍लादेश जा रहे हैं।'

अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने बुधवार को बताया कि 22-23 अप्रैल के बीच जलवायु परिवर्तन पर अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन बाइडन द्वारा आयोजित 'नेताओं के शिखर सम्मेलन' और इस वर्ष के अंत में संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (सीओपी26) से पहले कैरी इस मुद्दे पर विचार विमर्श के लिए इन देशों की यात्रा करेंगे। कैरी ने ट्वीट किया, 'जलवायु संकट से निपटने के लिए अमीरात, भारत और बांग्लादेश में दोस्तों के साथ सार्थक चर्चा को लेकर उत्साहित हूं।'

40 नेताओं संग जलवायु परिवर्तन से निपटने को लेकर वार्ता

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी समेत विश्व के 40 नेताओं को जलवायु परिवर्तन से निपटने को लेकर वार्ता के मकसद से आयोजित होने वाले 'नेताओं के शिखर सम्मेलन' के लिए आमंत्रित किया है। इस शिखर सम्मेलन का मकसद जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए ठोस कदम उठाने के आर्थिक लाभ एवं महत्व को रेखांकित करना है। वाइट हाउस ने पिछले सप्ताह कहा था, 'यह ग्लासगो में इस साल नवंबर में होने वाले संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (सीओपी26) के मार्ग में एक मील का पत्थर साबित होगा।'

Updated : 2 April 2021 5:19 AM GMT
Tags:    

Shivani

Magazine | Portal | Channel


Next Story
Share it
Top