Home > राज्यवार > झारखण्ड > धनबाद में जज की हत्या या हादसे के सस्पेंस से उठा पर्दा, जानें क्या कहता है सीसीटीवी फुटेज

धनबाद में जज की हत्या या हादसे के सस्पेंस से उठा पर्दा, जानें क्या कहता है सीसीटीवी फुटेज

धनबाद के जिला एवं सत्र न्‍यायाधीश उत्तम आनंद बुधवार सुबह मॉर्निंग वॉक के लिए निकले थे, तभी रणधीर वर्मा चौक के नज़दीक एक ऑटो ने उन्‍हें टक्कर मार दी थी। टक्कर से मारे गए जज की मौत की घटना सीसीटीवी में कैद हो गई, जिसमें दिखाई दिया कि टेम्पोनुमा ऑटो जज को टक्कर मारकर फरार हो गया।

धनबाद में जज की हत्या या हादसे के सस्पेंस से उठा पर्दा, जानें क्या कहता है सीसीटीवी फुटेज
X

उदय सर्वोदय

धनबाद : धनबाद के जिला एवं सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। शुरुआती जांच में माना जा रहा था कि सड़क हादसे में उत्तम आनंद की मौत हुई है। लेकिन मॉर्निंग वॉक पर निकले जिला एवं सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद की दुर्घटना​ में मौत का जो सीसीटीवी फुटेज सामने आया है, उससे काफी हद तक यह स्पष्ट हुआ है कि ऑटो ने टक्कर जानबूझकर मारी।

गौरतलब है कि धनबाद के जिला एवं सत्र न्‍यायाधीश उत्तम आनंद बुधवार सुबह मॉर्निंग वॉक के लिए निकले थे, तभी रणधीर वर्मा चौक के नज़दीक एक ऑटो ने उन्‍हें टक्कर मार दी थी। टक्कर से मारे गए जज की मौत की घटना सीसीटीवी में कैद हो गई, जिसमें दिखाई दिया कि टेम्पोनुमा ऑटो पहले सीधे सड़क पर जा रही था और जज सड़क किनारे वॉक कर रहे थे लेकिन आचनक सड़क किनारे आकर ऑटो जज को टक्कर मारकर फरार हो गया। फुटेज देखने के बाद पुलिस ऑटो चालक की मंशा पर सवाल उठा रही है। पोस्टमार्टम के लिए डीसी के आदेश पर आनन-फानन में मेडिकल बोर्ड का गठन किया गया। डॉक्टरों की टीम ने देश शाम न्यायाधीश के शव का पोस्टमार्टम किया। बताया जा रहा है कि सिर में गंभीर चोट के कारण उनके कान से रक्तश्राव हो गया। ब्रेन हेम्ब्रेज से मौत की बात कही जा रही है।

अब पुलिस इस मामले में हत्या के एंगल से भी जांच कर रही है।

ताज़ा खबरों की मानें तो पुलिस जांच में यह पता चला है कि जज की संदिग्ध हत्या में इस्तेमाल किया गया ऑटो चोरी का था। इस मामले में एक खबर में कहा गया है कि यह ऑटो पाथरडीह निवासी सुगनी देवी के नाम पर दर्ज है, जबकि सुगनी का कहना है कि रात में उसका ऑटो चोरी हो गया था और वारदात को अलसुबह अंजाम दिया गया।

बता दें कि मृतक जज पूर्व विधायक संजीव स‍िंंह के करीबी रंजय हत्याकांड के मामले में सुनवाई कर रहे थे। यह एक महत्वपूर्ण बात है इसलिए पुलिस इस घटना की गंभीरता से जांच कर रही है। इस मामले में तीन दिन पहले ही जज आनंद ने उत्तर प्रदेश के इनामी शूटर अभिनव सिंह और होटवार जेल में बंद अमन सिंह से ताल्लुक रखने वाले शूटर रवि ठाकुर व आनंद वर्मा की जमानत का आवेदन खारिज किया था। इसके साथ ही, आनंद कतरास में राजेश गुप्ता के घर पर बमबाज़ी के मामले जैसे कुछ और संवेदनशील केसों की सुनवाई कर रहे थे।

Updated : 29 July 2021 6:12 AM GMT
Tags:    

Shivani

Magazine | Portal | Channel


Next Story
Share it
Top
CCTV footage, accident, murder, judge, morning walk, police investigation, postmortem, tempo