Top
Home > खेल > मानसिक दृढ़ता के अभाव में हारते हैं फाइनल : मुर्तजा

मानसिक दृढ़ता के अभाव में हारते हैं फाइनल : मुर्तजा

मानसिक दृढ़ता के अभाव में हारते हैं फाइनल : मुर्तजा
X

ढाका। एशिया कप-2018 के फाइनल में भारत के हाथों मात खा कर स्वदेश लौटी बांग्लादेश क्रिकेट टीम के कप्तान मशरफे मुर्तजा ने कहा है कि टीम मानसिक दृढ़ता के कारण लगातार फाइनल मैचों में हार झेल रही है। मुर्तजा ने माना कि टीम फाइनल में कहीं न कहीं मानसिक तौर पर कमजोर पड़ जाती है और इसी कारण उसे हार मिलती है।भारत ने एशिया कप के फाइनल में बांग्लादेश को तीन विकेट से मात दी थी। बांग्लादेश की टीम एशिया कप में तीसरी बार फाइनल में पहुंची थी और तीसरी बार भी हार से बच नहीं पाई। उसने सबसे पहले 2012 में एशिया कप के फाइनल में जगह बनाई थी लेकिन पाकिस्तान ने करीबी मुकाबले में उसे मात दे दी थी। दूसरी बार उसने 2016 में फाइनल में कदम रखा था और भारत से हार मिली थी। इस बार भी भारत ने उसे पहले एशिया कप के खिताब से महरूम रख दिया। आईसीसी ने मुर्तजा के हवाले से लिखा है, "किन्हीं कारणों से यह नहीं हो रहा है। एक बार अगर हम ऐसा कर पाएं तो शायद दूसरी बार आसान होगा। जाहिर सी बात है कि हम कहीं न कहीं मानसिक तौर पर पिछड़ रहे हैं और इससे बाहर आने के लिए टूर्नामेंट जीतने बेहद जरूरी है।"बांग्लादेश की यह 2018 में दो से ज्यादा टीमों वाले टूर्नामेंट के फाइनल में तीसरी हार है। जनवरी में वह त्रिकोणिय सीरीज में श्रीलंका से हार गई थी जहां तीसरी टीम जिम्बाब्वे थी। वहीं निदास ट्रॉफी के फाइनल में उसे फाइनल में भारत से ही हार मिली थी। निदास ट्रॉफी में तीसरी टीम श्रीलंका थी।फाइनल में बांग्लादेश के पास उसके दो सबसे बेहतरीन खिलाड़ी नहीं थे। तमीम इकबाल और शाकिब अल हसन चोट के कारण फाइनल में नहीं खेले थे। लेकिन, टीम ने जोरदार मुकाबला किया। उन्होंने कहा, जिस मानसिकता से टीम के खिलाड़ी खेल, वो शानदार है। अगर मुझे भविष्य में इस तरह की कोशिश देखने को नहीं मिली तो निराश होऊंगा।

Updated : 1 Oct 2018 11:49 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top