Top
Home > राज्यवार > छत्तीसगढ़ > मोदी बनाना चाहते हैं दो भारत- एक उद्योगपतियों का, दूसरा गरीबों का : राहुल गांधी

मोदी बनाना चाहते हैं दो भारत- एक उद्योगपतियों का, दूसरा गरीबों का : राहुल गांधी

मोदी बनाना चाहते हैं दो भारत- एक उद्योगपतियों का, दूसरा गरीबों का : राहुल गांधी
X

नई दिल्ली (ब्यूरो रिपोर्ट) : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को छत्तीसगढ़ में कहा कि केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा और प्रधानमंत्री मोदी दो भारत बनाना चाहते हैं- एक राफेल घोटाला और उद्योगपति मित्रों का और दूसरा गरीब किसानों का.फसल बीमा योजना पर सवाल उठाते हुए राहुल ने कहा, 'क्या कारण है कि किसान अपना पैसा बीमा कंपनी को देता है और ओला पड़ने पर किसान को उसका पैसा नहीं मिलता है. पूरा फायदा अनिल अंबानी की कंपनी को जाता है.' कर्जमाफी योजना का जिक्र करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, 'जब हम विपक्ष में थे, तब भी हम किसानों का कर्ज माफ करने की बात करते थे और सरकार में पूछते थे तो सरकार कहती थी कि हमारे पास पैसा नहीं है और हम ये काम नहीं कर सकते. हिंदुस्तान के चौकीदार के पास छत्तीसगढ़ के किसानों के लिए 6000 करोड़ रुपये नहीं हैं, लेकिन अनिल अंबानी के लिए 30 हज़ार करोड़ रुपये हैं.'हर गरीब को न्यूनतम आय की गारंटी का वादा राहुल गांधी ने वादा किया कि अगर 2019 में कांग्रेस सत्ता में आई तो वह देश में हर एक गरीब को न्यूनतम आय की गारंटी देगी. राहुल ने कहा कि यह ऐतिहासिक कदम है और इससे गरीबी और भुखमरी को खत्म करने में मदद मिलेगी. राहुल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि वह और भाजपा दो भारत बनाना चाहते हैं.नया रायपुर में किसान रैली को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा, 'जैसे कांग्रेस पार्टी ने मनरेगा में 100 दिन का रोजगार गारंटी करके दिया, सूचना के अधिकार में गारंटी से ब्यूरोक्रेसी के दरवाजे खोले, भोजन का अधिकार गारंटी करके दिया, वैसे ही न्यूनतम आमदनी की गारंटी होगी.'https://twitter.com/INCIndia/status/1089849751170883586न्यूनतम आय की गारंटी क्या है? न्यूनतम आय की गारंटी एक तरह से 'यूनिवर्सल बेसिक इनकम स्कीम' ही है. इसके तहत सरकार देश के गरीबों को बिना शर्त एक तय रकम देती है. इसका मतलब यह हुआ कि अगर यह योजना लागू होती है तो सरकार को देश के हर गरीब नागरिक को एक निश्चित रकम एक निश्चित अंतराल पर देनी होगी. हालांकि इस स्कीम के तहत 'गरीब' की परिभाषा क्या होगी, यह सरकार ही तय करेगी.

Updated : 29 Jan 2019 5:49 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top