Top
Home > प्रमुख ख़बरें > नरेंद्र मोदी या राहुल गांधी? जानें सट्टा बाजार में कौन है भारी !

नरेंद्र मोदी या राहुल गांधी? जानें सट्टा बाजार में कौन है भारी !

नरेंद्र मोदी या राहुल गांधी? जानें सट्टा बाजार में कौन है भारी !
X

नई दिल्ली (एजेंसी) : लोकसभा चुनाव 2019 के लिए पांच चरणों का मतदान संपन्न हो चुका है. आखिर के दो चरणों में 118 सीटों पर मतदान अब बाकी रह गया है. 425 सीटों पर पांच चरणों में मतदान समाप्त हो चुका है. सर्जिकल स्ट्राइक, राष्ट्रवाद, न्याय, राफेल से शुरू हुए चुनावी जुमले बोफोर्स पर चर्चा तक पहुंच गए. इस परिस्थिति में सट्टा बाजार और सटोरियो के परिणाम और नई सरकार के प्रति क्या अनुमान है हमने उसे पता लगाने की कोशिश की. मिली खबरों के अनुसार इस बार लोकसभा चुनाव परिणाम पर लगभग 12, 000 करोड़ का सट्टा लगा है.सट्टा बाजार के अनुसार इस बार किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत मिलता दिखाई नहीं दे रहा. दोनों ही प्रमुख पार्टियों मे कांटे की टक्कर है, जबकि इन दोनों बड़ी पार्टियों से अलग 'महागठबंधन' अच्छी सीटें ला सकते हैं. इस स्थिति में तोड़-जोड़, पोस्ट-रिजल्ट, गठबंधन और 'त्रिशंकु' सरकार की संभावनाए नकार नहीं सकते. सट्टा बाजार के मुताबिक फिर से एक बार जैसे-तैसे बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार का गठन कर सकती है. एनडीए सरकार लिए 11 रुपये जब कि यूपीए की सरकार पर 33 रुपये का रेट चल रहा है.NDA 185 से 220 सीटसट्टा मार्केट के अनुसार बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए गठबंधन 185 से 220 सीटें हासिल कर सकती है जब कि यूपीए 160-180 सीटों पर जीत दर्ज कर सकती है. सटोरियो के हिसाब से एनडीए का भाव 2 है और कांग्रेस का भाव डेढ़ रूपया चल रहा है. सटोरियो के मुताबिक बीजेपी को इस चुनाव में 'एयर स्ट्राइक' का कोई ज्यादा फ़ायदा नहीं मिलेगा. बता दें चुनाव से पहले सटोरियों का अनुमान था कि बीजेपी को 250 सीटें मिल सकती हैं.सट्टा बाजार के ट्रेंड के अनुसार एनडीए और यूपीए की तुलना में थर्ड फ्रंट (महागठबंधन) को इस बार अच्छी सीटें मिल सकती है. सटोरियों के मुताबिक महागठबंधन के दलों को 225 से 250 सीटें मिल सकती हैं. दोनों ही बड़े गठबंधन के मुकाबले 'महागठबंधन' को निर्णायक सीटें मिल सकती हैं. ऐसी संभावना सूरत, मुंबई, कोलकाता और दिल्ली के सटोरिए लगा रहे हैं.गुजरात में यह है हालबीजेपी की प्रयोगशला माने जाने वाले गुजरात में पार्टी की सीटों के बारे में सट्टा मार्केट के हिसाब से देखें तो गुजरात में भाजपा को 6 सीटें गवानी पड़ सकती हैं. हालांकि इस मामले में सूरत, दिल्ली और मुंबई सट्टा बाजार के आँकड़े अलग-अलग है. दिल्ली सट्टा बाजार के हिसाब से गुजरात में बीजेपी को 22 जब की कांग्रेस को 4 सीटें मिल सकती है. सूरत और मुंबई सट्टा बाजार के मुताबिक भाजपा को 19 और कांग्रेस को 7 सीट मिल सकती है.गुजरात मे 2014 के मुकाबले बीजेपी को काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है. सट्टा बाजार की मानें तो बीजेपी को सौराष्ट्र से 2-3 सीटें, उत्तर गुजरात से 2 सीटें, और दक्षिण गुजरात से 1 सीट का नुकसान हो सकता है. कांग्रेस सौराष्ट्र से अमरेली, सुरेंद्रनगर और जूनागढ़, उत्तर गुजरात से बनासकांठा और पाटण, जब कि दक्षिण गुजरात से वलसाड सीट पर चुनाव जीत सकती है.

Updated : 7 May 2019 10:29 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top