Top
Home > राष्ट्रीय > इंदौर में कंप्यूटर बाबा की अवैध संपत्ति पर चला बुलडोजर, बाधा पहुंचा रहे 7 लोग गिरफ्तार

इंदौर में कंप्यूटर बाबा की अवैध संपत्ति पर चला बुलडोजर, बाधा पहुंचा रहे 7 लोग गिरफ्तार

प्रशासन की जांच के दौरान कम्प्यूटर बाबा के आश्रम परिसर में 2 एकड़ शासकीय भूमि पर अवैध कब्जा और निर्माण प्रमाणित पाया गया था।

इंदौर में कंप्यूटर बाबा की अवैध संपत्ति पर चला बुलडोजर, बाधा पहुंचा रहे 7 लोग गिरफ्तार
X

उदय सर्वोदय

इंदौर: मध्य प्रदेश में पूर्व की कमलनाथ सरकार में नदी संरक्षण न्यास के अध्यक्ष रहे कम्प्यूटर बाबा समेत 7 लोगों को सरकारी जमीन पर अवैध निर्माण ढहाए जाने के अभियान के दौरान रविवार सुबह एहतियातन गिरफ्तार किया गया।

पुलिस अधीक्षक (पश्चिमी क्षेत्र) महेशचंद्र जैन ने बताया कि इंदौर शहर से सटे जम्बूर्डी हप्सी गांव में कम्प्यूटर बाबा के आश्रम परिसर में प्रशासन द्वारा अवैध निर्माण ढहाए जाने के दौरान दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 151 (संज्ञेय अपराध घटित होने से रोकने के लिये की जाने वाली एहतियातन गिरफ्तारी) के तहत यह कदम उठाया गया। कम्प्यूटर बाबा और उनसे जुड़े 6 अन्य लोगों को एहतियातन गिरफ्तार कर एक स्थानीय जेल भेजा गया है।

वहीं एडिशनल डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट (ADM) ने बताया, "इस प्रक्रिया को रोकने की कोशिश कर रहे 6 लोगों को हमने हिरासत में ले लिया है।"

अधिकारियों ने बताया कि प्रशासन की जांच के दौरान कम्प्यूटर बाबा के आश्रम परिसर में 2 एकड़ शासकीय भूमि पर अवैध कब्जा और निर्माण प्रमाणित पाया गया था। हालांकि, यह आश्रम 40 एकड़ से ज्यादा जमीन पर फैला है और इसका मौजूदा बाजार मूल्य लगभग 80 करोड़ रुपये आंका जा रहा है। उन्होंने बताया कि राजस्व विभाग ने इस मामले में आश्रम के कर्ता-धर्ताओं पर कुछ दिन पहले 2,000 रुपये का अर्थदंड लगाया था और उन्हें शासकीय भूमि से अवैध निर्माण हटाने को कहा गया था। अतिक्रमण नहीं हटाए जाने पर प्रशासन ने आश्रम का सामान बाहर निकालकर अवैध निर्माण ढहा दिये, जिनमें शेड और कमरे शामिल हैं। इस दौरान वहां भारी पुलिस बल तैनात किया गया था।

अतिक्रमण से मुक्त कराई गई जमीन पर गौशाला का निर्माण कराया जाएगा और वहां धार्मिक स्थल विकसित किया जाएगा। वैष्णव संप्रदाय (अपने इष्ट देव के रूप में भगवान विष्णु को पूजने वाले हिंदू मतावलम्बी) से ताल्लुक रखने वाले कम्प्यूटर बाबा का असली नाम नामदेव दास त्यागी है। केवल 15 महीने चल सकी पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार ने उन्हें नर्मदा, क्षिप्रा और मन्दाकिनी नदियों के संरक्षण के लिये गठित न्यास का अध्यक्ष बनाया था।

Updated : 8 Nov 2020 9:04 AM GMT
Tags:    

Uday Sarvodaya

Magazine | Portal | Channel


Next Story
Share it
Top