Top
Home > राष्ट्रीय > नक्सलियों ने छोड़ा सीआरपीएफ जवान राकेश्वर सिंह को

नक्सलियों ने छोड़ा सीआरपीएफ जवान राकेश्वर सिंह को

नक्सलियों ने सीआरपीएफ जवान राकेश्वर सिंह को छोड़ दिया है। जिन्हे 3 अप्रैल को नक्सलियों द्वारा बंधक बना लिया था ।

नक्सलियों ने छोड़ा सीआरपीएफ जवान राकेश्वर सिंह को
X

एजेंसी

रायपुर: बीजापुर में नक्सलियों और सुरक्षा जवानों के बीच हुई मुठभेड़ के बाद बंधक बनाए गए कोबरा के जवान राकेश्वर सिंह मनहास को आखिर रिहा कर दिया गया। उन्हें एंबुलेंस से बीजापुर लाया गया है। इस खबर पर परिवार वालों ने मिठाइयां बांटकर खुशी जताई। राकेश्वर सिंह की पत्नी ने कहा कि हम मीडिया और सरकार का धन्यवाद करते हैं।

अधिकारियों ने बताया कि 210वीं कमांडो बटालियन फॉर रिजॉल्यूट ऐक्शन (कोबरा) के कांस्टेबल राकेश्वर सिंह मनहास की रिहाई के लिये राज्य सरकार ने दो प्रमुख लोगों को नक्सलियों से बातचीत के लिये नामित किया था। नक्सलियों ने घने जंगल में राकेश्वर सिंह को सैकड़ों लोगों की मौजूदगी में सामाजिक कार्यकर्ता धर्मलाल सैनी और आदिवासी नेता तेलम बोरइया को सौंपा।

जवान की रिहाई से ठीक पहले बस्तर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक सुंदरराज पी ने बताया था कि मामले में सकारात्मक पहल हुई है। उम्मीद है कि जल्द की जवान को रिहा करवा लिया जाएगा। सुंदरराज ने कहा कि सुरक्षा कारणों से इस संबंध में अधिक जानकारी नहीं दी जा सकती है।

बता दें कि 3 अप्रैल को छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में सुरक्षा बलों पर हमला कर नक्सलियों ने राकेश्वर सिंह मनहास को बंधक बना लिया था। इस हमले में 22 सुरक्षा कर्मी शहीद हो गए थे और कई कर्मी घायल हो गए थे। दूसरी तरफ नक्सलियों ने बयान जारी कर कहा था कि तीन अप्रैल को सुरक्षा बल के दो हजार जवान हमला करने जीरागुडेम गांव के पास पहुंचे थे, इसे रोकने के लिए पीएलजीए ने हमला किया। माओवादियों ने बयान में कहा था कि एक जवान को बंदी बनाया गया है जबकि अन्य जवान वहां से भाग गए। बयान में कहा गया था कि सरकार पहले मध्यस्थों के नाम की घोषणा करे इसके बाद बंदी जवान को सौंप दिया जाएगा।

Updated : 8 April 2021 4:57 PM GMT
Tags:    

Shivani

Magazine | Portal | Channel


Next Story
Share it
Top