Top
Home > राज्यवार > दिल्ली > निर्भया कांड की छठी बरसी

निर्भया कांड की छठी बरसी

निर्भया कांड की छठी बरसी
X

निर्भया कांड के आज छह साल हो गए। लेकिन अब भी कई सवाल हैं। जिसके जवाब आना बाकी है। आखिर क्या इंसाफ मिला। या राजनेैतिक दल केवल अपने हित साधकर चल दिए।17 दिसंबर को राजस्थान में शपथ ग्रहणगौरतलब है कि 16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में चलती बस में निर्भया के साथ बर्बरता से गैंगरेप को अंजाम दिया गया था। 13 दिनों तक मौत से लड़ने के बाद निर्भया ने हमेशा के लिए आंखे मूंद ली थीं, फिर हुआ था बड़ा आंदोलन। लाखों लोग सड़कों पर उतरे थे, देशव्यापी प्रदर्शनों के बाद सरकार कड़े कानून के लिए हुई थी मजबूर। गैंगरेप के चारों दोषियों को मौत की सजा सुनाई गई है, एक आरोपी जेल में कर चुका है खुदकुशी।राफेल सौदे में सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले पर कई सवाल- यशवंत सिन्हानिर्भया के गुनहगारों को फांसी पर कब लटकाया जाएगा, यह सवाल अभी कायम है। निर्भया के पिता का कहना है कि रिव्यू पिटिशन खारिज होने के बाद अभी तक क्यूरेटिव पिटिशन दाखिल नहीं किया गया है और न ही दया याचिका दाखिल की गई है। ऐसे में वे इस तथ्य को लेकर अंधेरे में हैं कि आखिर निर्भया के गुनहगारों को फांसी पर कब लटकाया जाएगा। निर्भया की मां आशा देवी का कहना है कि निर्भया के अपराधी आज भी जिंदा हैं और यह कानून व्यवस्थआ की हार है। हालांकि उन्होंने अपने दुख को जब्त करते हुए यह भी कहा है कि हम सभी लड़कियों से यह कहना चाहते हैं कि वे खुद को कमजोर न समझें।

Updated : 16 Dec 2018 3:56 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top