Home > राष्ट्रीय > अब गंगा में किसी भी प्रकार की मूर्ति विसर्जन करने वाले के ऊपर सरकार लगाएगी जुर्माना

अब गंगा में किसी भी प्रकार की मूर्ति विसर्जन करने वाले के ऊपर सरकार लगाएगी जुर्माना

अब गंगा में किसी भी प्रकार की मूर्ति विसर्जन करने वाले के ऊपर सरकार लगाएगी जुर्माना
X

दिल्ली, ब्यूरो | गंगा नदी हमारे देश की सबसे पवित्र नदियों में से एक है, जो कि हिमालय से आने वाली कई सारी नदियों से मिलते हुए आती है। अब हमारी भोली जनता विश्व्भर गंगा की इस पवित्रता को दर्शाने के लिए आये दिन त्यौहारों पर कुछ ना कुछ विसर्जित करती रहती है। इस से उनकी आस्था तो पूरी हो जाती है, लेकिन वो यह नहीं देखते कि आस्था पूरी होने के बाद गंगा का जल कितना प्रदूषित होता है। हमारी केंद्र सरकार ने इसके ऊपर एक बहुत ही कठोर कदम उठाया है। अब से जो भी व्यक्ति गंगा तथा उसकी सहायक नदियों में मूर्ति या फिर कुछ भी धार्मिक वस्तु को विसर्जित करते हुए पाया गया तो उसे ऊपर पूरे 50000 का जुर्माना लगाया जाएगा।इस कार्य का जिम्मा केंद्र सरकार ने जिला मजिस्ट्रेट को सौंपा है। मजिस्ट्रेट की देख रेख में इन सभी बातों का ध्यान रखा जाएगा। नदियों के तटों पर घेराबंदी करवाई जायेगी, तथा मूर्तियाँ या फिर अन्य धार्मिक वस्तुओं को प्रवाहित करने के लिए नदियों के किनारे तालाबों का निर्माण करवाया जाएगा। स्वच्छ गंगा जैसे राष्ट्रिय मिशन के महानिदेशक राजीव रंजन मिश्र ने 16 सितम्बर को ये आदेश जारी कर दिए थे। सभी राज्य सरकारों को आदेश दिए गये हैं कि गणेश चतुर्थी, विश्वकर्मा पूजा, दशहरा, दीपावली, छठ पूजा और सरस्वती पूजा जैसी धार्मिक पूजाओं के बाद उन्होंने इसके ऊपर क्या कारवाई की है, इसकी पूरी रिपोर्ट देनी होगी। आपको बता दें कि इन नियमों का उल्लंघन करने वालों को पर्यावरण हर्जाने के रूप में पूरे 50000 का जुर्माना भरना पड़ सकता है, इसलिए पहले ही सतर्क हो जाएँ और ऐसे कार्य करने से बचें।

Updated : 4 Oct 2019 2:51 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top