Home > राष्ट्रीय > पीएम मोदी द्वारा ट्रंप सरकार का साथ देने से उनके करीबी हुए उनसे नाराज

पीएम मोदी द्वारा ट्रंप सरकार का साथ देने से उनके करीबी हुए उनसे नाराज

पीएम मोदी द्वारा  ट्रंप सरकार का साथ देने से उनके करीबी हुए उनसे नाराज
X

नई दिल्ली, ब्यूरो | अगले साल 2020 में अमरीका में राष्ट्रपति चुनाव होने हैं । अब डोनाल्ड ट्रम्प फिलहाल अमरीका के राष्ट्रपति हैं । डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन मतलब समझ लीजिए कि अमरीका के कांग्रेस और भाजपा । तो नरेंद्र मोदी ने “अबकी बार, ट्रम्प सरकार” कहते हुए तुलसी गैबार्ड का पत्ता साफ़ कर दिया । लोग सोशल मीडिया पर लिखने लगे हैं कि ट्रम्प की वक़ालत करके नरेंद्र मोदी ने तुलसी को नुकसान पहुंचाया है । हमने कहा कि तुलसी गैबार्ड संघ से जुड़ी हुई हैं । उनके कई कार्यक्रमों में भीड़ जुटाने से लेकर पूरे मैनेजमेंट को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े लोग देखा करते हैं । उनसे जब भी पूछा गया कि संघ से अपने रिश्ते पर क्या कोई सफाई देना चाहेंगी? तुलसी ने कुछ नहीं कहा तथा जवाब देने से इंकार कर दिया या गोलमोल जवाब दिया । पत्रकार पीटर फ्रेडरिक ने उनसे पूछा कि वे आरएसएस के इवेंट में तीन बार प्रमुझ वक्ता के तौर पर बोल चुकी हैं । और अपने ऑफिस में आरएसएस अधिकारियों से मिलती रही हैं और कहती हैं कि -

“मैंने इस देश को बचाने के लिए शपथ ली है । इस देश के लोगों को बचाने के लिए मैं हरसंभव कोशिश करूंगी । इस देश की पहचान इसकी विविधता है । मैं खुद का साथ देने के लिए सभी का शुक्रिया अदा करती हूं ।”

खुद पर और उनके आरएसएस से संबंधों पर उठने वाले सवालों पर उनका पहले से यही रवैया रहा है । मतलब हिन्दू राष्ट्रवादियों को समर्थन देने के बावजूद अमरीकी राजनीति में एक प्रगतिशील सितारा । ये हिंदूविरोधी भावनाएं भड़काने का प्रयास है । हालांकि नरेंद्र मोदी ने कहा कि पहले भी मेरे दोस्त प्रेसिडेंट ट्रम्प के शब्द अबकी बार, ट्रम्प सरकार ने बहुत जोर और साफ़ हल्ला मचा दिया था। ऐसा इसलिए क्योंकि 2016 के आम चुनाव में डोनाल्ड ट्रम्प ने भी 2014 में मोदी का कैम्पेन कॉपी किया था । खुद ही नारा दिया था – अबकी बार, ट्रम्प सरकार । कहा जाता है कि अमरीका में बसे हुए प्रवासी भारतीयों को साधने के लिए ट्रम्प ने ये नारा दिया था, जिसकी बड़ाई नरेंद्र मोदी ने अब जाकर की है । अपने भाषण में “अबकी बार, ट्रम्प सरकार” बोलने के बाद नरेंद्र मोदी कुछ सेकंड के लिए चुप हो गए थे । चर्चा है कि ये बहुत कूटनीतिज्ञ चुप्पी थी, जिसमें नरेंद्र मोदी डोनाल्ड ट्रम्प के लिए अगले चुनाव के लिए भी मोर्चा खोल गए । इसके बाद भारत में कांग्रेस पार्टी ने भी इस पर बवाल किया है । कहा है कि आप हमारे प्रधानमंत्री हैं, आपको इस तरह से दूसरे देश के राष्ट्रपति के लिए आपको कैम्पेन नहीं करना चाहिए ।

Updated : 24 Sep 2019 8:23 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top