Top
Home > राज्यवार > दिल्ली > अब लाल किले में देखें ‘नेताजी’ से जुड़ी चीजें, मोदी ने किया संग्रहालय का उद्घाटन

अब लाल किले में देखें ‘नेताजी’ से जुड़ी चीजें, मोदी ने किया संग्रहालय का उद्घाटन

अब लाल किले में देखें ‘नेताजी’ से जुड़ी चीजें, मोदी ने किया संग्रहालय का उद्घाटन
X

नई दिल्ली (ब्यूरो रिपोर्ट) : नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 122वीं जयंती पर बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के लाल किले में बने सुभाष चंद्र बोस म्यूजियम का उद्घाटन कर इसे राष्ट्र को समर्पित किया. इस म्यूजियम में सुभाष चंद्र बोस और आजाद हिंद फौज से जुड़ी चीजों को प्रदर्शित किया गया है. इस संग्रहालय में नेताजी द्वारा इस्तेमाल की गई तलवार, कुर्सी के साथ ही आईएनए से जुड़े पदक, वर्दी, बैज और अन्य चीजें भी देखी जा सकती हैं.बता दें कि आईएनए के खिलाफ जो मुकदमा दायर किया गया था, उसकी सुनवाई लाल किले के परिसर में ही की गई थी, यही वजह है यहां संग्रहालय बनने का. म्यूजियम देखने आने वालों को बेहतरीन अनुभव प्राप्त हो, इसके लिए इसे खास तौर से डिजाइन किया गया है. बताया जा रहा है कि यहां पेंटिंग, फोटो, पुराने रिकॉर्ड, अखबार की कटिंग, ऑडियो-विडियो क्लिप, मल्टीमीडिया और एनिमेशन की भी सुविधा है.उद्घाटन कार्यक्रम की विशेष बात यह रही कि इस मौके पर सुभाष चंद्र बोस के पोते चंद्र बोस भी मौजूद रहे. उद्घाटन के उपरांत चंद्र बोस एवं प्रधानमंत्री मोदी याद-ए-जलियां संग्रहालय (जलियांवाला बाग और प्रथम विश्वयुद्ध पर संग्रहालय) और 1857 (प्रथम स्वतंत्रता संग्राम) पर बने संग्रहालय और भारतीय कला पर दृश्यकला संग्रहालय भी देखने गए.नेताजी के नाम पर होगा अंडमान के तीन द्वीपों का नाम गौरतलब है कि आजाद हिंद फौज ने अंडमान निकोबार द्वीप समूह में 75 साल पहले तिरंगा फहराया था. इसी की 75वीं वर्षगांठ होने के मौके पर कुछ समय पहले ही पीएम नरेंद्र मोदी अंडमान के दौरे पर गए थे. तब उन्होंने तीन द्वीपों का नाम सुभाष चंद्र बोस के नाम पर रखने का ऐलान किया था. अंडमान के हैवलॉक द्वीप का नाम स्वराज द्वीप, नील द्वीप का नाम शहीद द्वीप और रॉस द्वीप को नेताजी सुभाष चंद्र द्वीप के नाम से जाना जाएगा.

Updated : 23 Jan 2019 7:40 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top