Home > राज्यवार > दिल्ली > दिल्ली में जानलेवा हुआ प्रदूषण

दिल्ली में जानलेवा हुआ प्रदूषण

दिल्ली में जानलेवा हुआ प्रदूषण
X

नई दिल्ली-सर्दियों के इन दिनों में जहाँ एक ओर कोहरे के दिन शुरू हो रहे हैं वहीं दिल्ली के लिए एक बेहद खतरनाक खबर सामने आई है। रविवार का दिन साल का दूसरा सर्वाधिक प्रदूषित दिन साबित हुआ। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के मुताबिक रविवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक 446 दर्ज किया गया जबकि सफर के मुताबिक हवा की गुणवत्ता का सूचकांक पूरे दिन में अधिकतम 471 था। इससे पहले दिवाली के एक दिन बाद 8 नवंबर को वायु गुणवत्ता सूचकांक (ए.क्यू.आई.) 541 के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया था।‘माय’ समीकरण अब 69 गणित तक पहुंचादिल्ली में लगातार बढ़ता प्रदूषण दिल्लीवासियों के लिए जानलेवा बन रहा है। दम घोटने वाली जहरीली हवाएं हम सभी को खास कर बच्चों को अन्दर ही अन्दर कमजोर कर रही हैं। प्रतिदिन 60 सिगरेट पीने जैसी हवाओं में सांस लेना हम सभी की जीवन आयु को कम कर रहा है। हाल ही में एक रिपोर्ट आई थी जिसके मुताबिक दिल्लीवासियों की उम्र 18 महीने घट गयी है, जो दिल्ली के लिए शर्मनाक है।दिल्ली की लगातार गिरती वायु गुणवत्ता को देखते हुए सी.पी.सी.बी. ने दिल्लीवासियों के लिए हिदायतें भी जारी की हैं। अगले 48 घंटे दौरान भी अगर प्रदूषण स्तर में सुधार नहीं आया तो कारों के न्यूनतम इस्तेमाल, निर्माण पर पाबंदी जैसे कुछ और सख्त कदम उठाए जा सकते हैं। ई.पी.सी.ए. ने वाहनों के कारण होने वाले प्रदूषण और बायोमास जलाने पर प्रतिबंध को सख्ती से लागू करने के निर्देश भी दे दिए हैं। सी.पी.सी.बी. ने हिदायतें दी कि:- 1. अगले पांच दिनों में घरों से कम से कम बाहर निकलें। 2. खुली हवा में सैर से बचें। 3. निजी वाहनों का न्यूनतम इस्तेमाल करें।प्रदूषण के मुद्दे पर लगातार आवाज उठा रहे दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने इस मुद्दे पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि यह बड़े ही शर्म की बात है कि देश की राजधानी होते हुए भी दिल्ली पर सबसे प्रदूषित राज्य होने का धब्बा लगा हुआ है और प्रदुूषण का यह खतरा इस कदर तक बढ़ गया है कि ये दिल्लीवासियों खास कर बच्चों के प्राण सोखने लगा है। श्री तिवारी ने कहा कि ये दिल्ली का दुर्भाग्य है कि अपने हर निजी मुद्दे या बाहरी मुद्दों पर सदन में चर्चा करने वाले केजरीवाल इस जानलेवा मुद्दे पर मौन हैं और कोई कदम नहीं उठा रहे हैं।तिवारी ने कहा कि एन.जी.टी. द्वारा बार-बार जुर्माना लगाने पर भी केजरीवाल सरकार का प्रदूषण के प्रति उदासीन रवैया दिल्लीवासियों की जान के प्रति उनकी गैर जिम्मेदारी को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि हमने कई बार प्रदूषण के मुद्दे पर केजरीवाल जी को सर्वदलीय बैठक बुलाकर इस मुद्दे को गंभीरता से लेने को कहा है लेकिन इसके बावजूद केजरीवाल जी को दिल्ली की जनता की जान से ज्यादा अपनी राजनीति प्रिय है। कल तक वे जिनको चोर बताते थे आज राजनीतिक स्वार्थ की पूर्ती के लिए उन्हीं से हाथ मिला रहे हैं। कल तक जो दंभ से कहते थे कि हमारे पास कांग्रेस के खिलाफ भ्रष्टाचार के सबूत हैं वो आज सबूत तो छोडिये उनके खिलाफ कुछ बोलते तक नहीं हैं।तिवारी ने ट्वीट कर मेट्रो फेज 4 को मजबूरी में ही सही पास करने पर बधाई देते हुए कहा कि उन्होंने मेट्रो फेज 4 पास होने पर जो 1 लाख रुपये आप को देने का वादा किया था वो राशि वे सोनी मिश्रा और स्वर्गीय संतोष कोली के परिवार को दे रहा हूँ। इसके साथ ही उन्होंने यही राशि प्रदूषण मुक्ति के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाकर ठोस कदम उठाने पर भी देने को कहा। श्री तिवारी ने कहा कि प्रदूषण का मुद्दा कोई राजनीतिक नहीं है और इस पर राजनीति न कर के हम सभी को साथ मिलकर इसका हल निकालना चाहिए जिससे दिल्लीवासियों की जान पर जो खतरा मंडरा रहा है उससे जल्द से जल्द निपटाया जा सके।तिवारी ने मुख्यमंत्री केजरीवाल से सवाल करते हुए कहा कि आप ही सी.एम. हो ना दिल्ली के? प्रदूषण से निजात पाने के लिए क्यों नहीं बुला रहे हो आल पार्टी मीटिंग और एक स्पेशल सेशन या समझ लें कि आप से न होगा? उन्होंने पूछा कि हम दिल्ली में रह रहे लोगों की जान ले कर क्या मिलेगा आपको? केंद्र सरकार की एक आयुष्मान भारत योजना का जिक्र करते हुए श्री तिवारी ने कहा कि आप ने इस योजना को भी लागू नहीं किया फ्री इलाज के लिए।मनोज तिवारी ने पुनः दिल्ली के मुख्यमंत्री से मांग की कि इससे पहले प्रदूषण महामारी बन जाये और एक-एक कर दिल्लीवासियों की जान लेने लगे, इस मुद्दे को गंभीरता से लिया जाये और सर्वदलीय बैठक के साथ-साथ विशेष सत्र बुलाकर जल्द से जल्द प्रदूषण नियंत्रण के उपायों को तलाशा जाये और यदि हम सबके किये गये प्रयासों से प्रदूषण से निजात पाने में सफलता मिलती है तो यह दिल्लीवासियों के लिए बड़ी राहत होगी।

Updated : 25 Dec 2018 4:42 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top