Home > राष्ट्रीय > आयुष्मान भारत योजना में भी होने लगे हैं घोटाले, 97 अस्पतालों का हुआ खुलासा

आयुष्मान भारत योजना में भी होने लगे हैं घोटाले, 97 अस्पतालों का हुआ खुलासा

आयुष्मान भारत योजना में भी होने लगे हैं घोटाले, 97 अस्पतालों का हुआ खुलासा
X

दिल्ली, ब्यूरो | केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने कहा है कि फ्रॉड में संलिप्त होने के कारण सरकार ने 97 अस्पतालों को आयुष्मान भारत योजना के पैनल से बाहर ​कर दिया है। सरकार के इस कदम की घोषणा आयुष्मान भारत योजना में खामियों को लेकर इंवेस्टिगेशन टीम के खुलासे के बाद हुई है। इंवेस्टिगेशन में सामने आया था कि कैसे कुछ अस्पताल आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थी मरीजों का इलाज करने से मना कर रहे हैं। मंगलवार को केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि कुछ ऐसे मामले उनके सामने आए ​जो इन अस्पतालों को पैनल से हटाने के लिए पर्याप्त है।

केंद्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि कुछ अस्पतालों में फ्रॉड के मामले सामने आए हैं। इन्हें लेकर कार्रवाई की जा रही है। 255 कर्मचारियों की आईडी बंद कर दी गई है और 376 की जांच की जा रही है। मंत्री ने यह भी कहा कि लाभर्थियों के साथ के मामले में संलिप्त 6 अस्पतालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। हाल ही में जब इंडिया टुडे के अंडर कवर रिपोर्टरों ने एक गरीब टाइफाइड के मरीज का तीमारदार बनकर हरियाणा के पलवल में स्थित गोल्डेन अस्पताल में इलाज के लिए संपर्क किया तो उस मरीज का इलाज करने से मना कर दिया गया। आयुष्मान भारत प्रोजेक्ट के ऑनलाइन पोर्टल पर गोल्डन हॉस्पिटल का नाम भी शामिल है। गोल्डन हॉस्पिटल के मेडिकल हेड डॉ अंशुमान दास ने आयुष्मान भारत योजना के तहत टाइफाइड का इलाज शामिल होने से इनकार किया।

Updated : 18 Sep 2019 5:39 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top