Top
Home > राज्यवार > बिहार > बिहार में राजद को डबल झटका: पांच एमएलसी ने नाता तोड़ा, रघुवंश प्रसाद ने उपाध्यक्ष पद छोड़ा

बिहार में राजद को डबल झटका: पांच एमएलसी ने नाता तोड़ा, रघुवंश प्रसाद ने उपाध्यक्ष पद छोड़ा

बिहार में राजद को डबल झटका: पांच एमएलसी ने नाता तोड़ा, रघुवंश प्रसाद ने उपाध्यक्ष पद छोड़ा
X

उदय सर्वोदय

पटना: बिहार में इस वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले मुख्यविपक्षी राष्ट्रीय जनता दल को डबल झटका है। मंगलवार को पहलेतो पार्टी के पांच एमएलसी जेडीयू में चले गए, फिर पार्टी केवरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद ने राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

(राजद) के पांचविधान पार्षद दिलीप राय, राधाचरण साह,संजय प्रसाद, मो. कमर आलम और रणविजय कुमार सिंह ने पाला बदल सत्तारूढ़जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के साथ हाथ मिला लिया है।

विधान परिषद केकार्यकारी सचिव विनोद कुमार ने बताया कि राजद के आठ सदस्यों में से दो तिहाई सदस्यने मंगलवार को राजद से अलग समूह बनाकर जदयू में विलय कर लेने संबंधी पत्र परिषदमें सत्तारूढ़ दल की सचेतक रीना देवी उर्फ रीना यादव को दिया। इसके बाद उन्होंनेजदयू में विलय के लिए विधायक दल की स्वीकृति संबंधी पत्र परिषद के कार्यकारीसभापति अवधेश नारायण सिंह को सौंपा।

कुमार ने बतायाकि परिषद के कार्यकारी सभापति ने राजद से अलग हुए समूह को जदयू में विलय कीमान्यता प्रदान की है। इससे पूर्व राजद के इन पांच सदस्यों ने पार्टी से इस्तीफादे दिया था।

इन पांच सदस्योंके जदयू में विलय कर लेने से विधान परिषद में अब राजद के तीन सदस्य पूर्वमुख्यमंत्री राबड़ी देवी, सुबोध कुमार औररामचंद्र पूर्वे रह गए हैं। जदयू में शामिल राजद के पांच सदस्यों में से संजयप्रसाद, दिलीप राय और राधाचरण साहस्थानीय प्राधिकार से वहीं मो. कमर आलम और रणविजय कुमार सिंह विधानसभा निर्वाचनक्षेत्र से चुनकर आए हैं।

आरजेडी छोड़नेवाले पांचो विधान पार्षद के जेडीयू का दामन थामने के बाद यह कहा जा रहा है कि अभीकई विधायक और है जो आरजेडी छोड़ सकते हैं। दरअसल जेडीयू और बीजेपी की ओर से लगातार यह दावा किया जा रहा थाकि चुनाव के पहले ही आरजेडी के कई विधायक पाला बदलकर उनकी तरफ आ सकते हैं।सत्तारूढ़ दल के नेताओं ने यहाँ तक दावा किया हैकि आरजेडी के ज्यादातर विधायक तेजस्वी यादव के नेतृत्व से नाराज हैं और वे कभी भी पार्टी छोड़ सकतेहैं।

उधर, राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने अपने पदसे इस्तीफा देकर पार्टी की मुश्किलें और बढ़ा दी हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री सिंहइन दिनों कोरोना पॉजिटिव होने के बाद पटना के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान(एम्स) में इलाजरत है। उन्होंने वहीं से पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पद से अपनाइस्तीफा राजद के शीर्ष नेतृत्व को भेज दिया है।

वह अपने धुरविरोधी रामाकिशोर सिंह उर्फ रामा सिंह के इस वर्ष 29 जून को राजद में शामिल होने के तय कार्यक्रम से नाराज हैं। सिंहने पार्टी नेतृत्व को पहले ही बता दिया था कि या तो राजद में वह रहेंगे या रामासिंह रहेंगे।

बता दें कि बिहारबीजेपी विधान मंडल दल के नेता सुशील कुमार मोदी पहलेकह चुके हैं कि रघुवंश बाबू अच्छे व्यक्ति हैं, लेकिन गलत पार्टी में हैं। सुशील मोदी काफी समय पहले हीरघुवंश प्रसाद सिंह को एनडीए में आने का निमंत्रण दे चुके हैं।

Updated : 23 Jun 2020 9:13 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top