Home > राज्यवार > दिल्ली > सैनिक स्कूल में बेटियों को पढने की मिली अनुमति

सैनिक स्कूल में बेटियों को पढने की मिली अनुमति

सैनिक स्कूल में बेटियों को पढने की मिली अनुमति
X

नई दिल्ली, ब्यूरो | 1961 में रक्षा मंत्रालय के द्वारा सैनिक स्कूलों का निर्माण करवाया गया था। जिसमें 6 से लेकर 12वीं तक के बच्चों को आवासीय सुविधा के साथ शिक्षा देने का फैसला लिया गया था। इस विद्यालय में केवल लड़कों को ही पढने की अनुमति दी गयी थी। लड़कियों को इस विद्यालय में दाखिला नहीं मिलता था लेकिन अब नवोदय विद्यालय की तरह यह भी संभव हो चुका है। यह मांग पिछले 3 सालों से उठाई जा रही थी जो की अब जाकर सफल हुई है।पहले तक केवल लड़कों को ही सैनिक स्कूल में भर्ती किया जाता था लेकिन अब ऐसा नहीं है। अब भारत की लड़कियां भी सैनिक स्कूल में पढाई के लिए आवेदन कर सकती हैं। लड़के तथा लड़कियों को सैनिक स्कूल में एक साथ शिक्षा देने का यह प्रोजेक्ट सबसे पहले मिजोरम की सैनिक स्कूल में आजमाया गया था। और वहां ये सफल भी रहा । इस प्रोजेक्ट के तहत 6वीं कक्षा में 30 छात्राओं को दाखिला दिलाया गया था। और इस सफलता के चलते भारत सरकार ने 2020 में 26 सैनिक स्कूलों में लड़कियों को दाखिला दिलवाने का फैसला लिया है।

Updated : 5 Sep 2019 7:04 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top