Home > राज्यवार > दिल्ली > श्यामा प्रसाद मुखर्जी महिला महाविद्यालय में दो दिवसीय संगोष्ठी का आयोजन

श्यामा प्रसाद मुखर्जी महिला महाविद्यालय में दो दिवसीय संगोष्ठी का आयोजन

श्यामा प्रसाद मुखर्जी महिला महाविद्यालय में दो दिवसीय संगोष्ठी का आयोजन
X

नई दिल्ली ¦ ब्यूरो रिपोर्ट श्यामा प्रसाद मुखर्जी महिला महाविद्यालय (डीयू) एवं विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, भारत सरकार के संयुक्त तत्त्वावधान में 29 एवं 30 अप्रैल 2019 को ‘मीडिया – भाषा, समाज और संस्कृति’ विषय पर दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन हुआ है। संगोष्ठी के उद्घाटन सत्र का प्रारम्भ प्राचार्या डा. साधना शर्मा के उद्घाटन वक्तव्य से हुआ। अतिथियों का स्वागत करते हुए अपने वक्तव्य में प्राचार्या डा. साधना शर्मा ने भाषा, समाज, संस्कृति और मीडिया के मध्य सम्बन्धों की चर्चा की।उद्घाटन सत्र में मुख्य अतिथि के रूप में डा. सच्चिदानन्द जोशी, सदस्य सचिव, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र दिल्ली तथा विशेष अतिथि के रूप में डा. जे. के. त्रिपाठी संयुक्त सचिव, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग उपस्थित थे। डा. सच्चिदानन्द जोशी ने बीज वक्तव्य प्रस्तुत किया। संगोष्ठी में मीडिया की वर्तमान भूमिका को समझने के क्रम में मीडिया मिशन या कमीशन से लेकर सांस्कृतिक वर्चस्ववाद जैसे विषयों पर चार सत्र आयोजित किये गए।संगोष्ठी के विभिन्न सत्रों में श्रीमती अनुराधा प्रसाद (एडिटर इन चीफ, न्यूज़ 24), प्रसिद्ध टी.वी. एवं फिल्म कलाकार श्री अखिलेन्द्र मिश्र, डा. मंजरी जोशी, श्रीमती अलका सिन्हा तथा डा. शशिभूषण द्विवेदी सहित देश के प्रमुख मीडिया विशेषज्ञों ने अपने वक्तव्य प्रस्तुत किये। समापन सत्र का आयोजन महाविद्यालय के शासी निकाय की अध्यक्षा डा. कविता शर्मा और प्राचार्या डॉ. साधना शर्मा के विशिष्ट सान्निध्य में हुआ|इस सत्र में प्रोफ़ेसर संजय कुमार सिन्हा तथा वरिष्ठ पत्रकार प्रो. सुधीश पचौरी उपस्थित रहे। इस अवसर पर दिल्ली विश्वविद्यालय के पूर्व उपकुलपति प्रो. सुधीश पचौरी ने पत्रकारिता में व्याप्त विसंगतियों की चर्चा करते हुए उसकी समस्याओं एवं समाधानों पर अपना सूक्ष्म विश्लेषण प्रस्तुत किया। संगोष्ठी में विभिन्न विद्वानों एवं शोधार्थियों द्वारा शोधपत्र भी प्रस्तुत किये गए। समापन सत्र में अतिथियों द्वारा विभिन्न प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र वितरित किये गए। संगोष्ठी में पत्रकारिता तथा मीडिया से सम्बद्ध विभिन्न विषयों पर विभिन्न विद्वानों के मध्य सार्थक संवाद हुआ।

Updated : 1 May 2019 6:40 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top