Top
Home > खेल > ब्रिस्बेन टेस्ट: सिराज के पंजे और ठाकुर के चौके से मैच में आया रोमांच

ब्रिस्बेन टेस्ट: सिराज के पंजे और ठाकुर के चौके से मैच में आया रोमांच

ऑस्ट्रेलिया को कुल 327 रन की बढ़त हासिल हुई और उसने निर्णायक जंग में भारत के सामने जीत के लिए 328 रन का बेहद मुश्किल लक्ष्य रख दिया।

ब्रिस्बेन टेस्ट: सिराज के पंजे और ठाकुर के चौके से मैच में आया रोमांच
X

एजेंसी

ब्रिस्बेन: तेज गेंदबाजों मोहम्मद सिराज (73 रन पर पांच विकेट) और शार्दुल ठाकुर (61 रन पर चार विकेट) की घातक गेंदबाजी से भारत ने ऑस्ट्रेलिया को चौथे और अंतिम क्रिकेट टेस्ट के चौथे दिन सोमवार को दूसरी पारी में 294 रन पर समेट दिया। ऑस्ट्रेलिया को कुल 327 रन की बढ़त हासिल हुई और उसने निर्णायक जंग में भारत के सामने जीत के लिए 328 रन का बेहद मुश्किल लक्ष्य रख दिया।

भारत ने लक्ष्य का पीछा करते हुए अपनी पारी शुरू की और 1.5 ओवर में बिना कोई विकेट खोए चार रन बनाए थे कि बारिश के कारण दिन का शेष खेल समाप्त करना पड़ा। रोहित शर्मा ने एक चौका लगाया है और वह चार रन तथा शुभमन गिल खाता खोले बिना क्रीज पर हैं। भारत को मैच के पांचवें और अंतिम दिन मंगलवार को जीत के लिए 324 रन बनाने होंगे। दूसरी तरफ ऑस्ट्रेलिया की पूरी कोशिश रहेगी कि वह भारत के सभी 10 विकेट लक्ष्य से पहले झटक ले।

आज अंतिम सत्र में तेज बारिश ने खेल का मजा बिगाड़ा जबकि आखिरी दिन भी बारिश होने की आशंका है। यदि भारत यह मैच जीतता है या ड्रॉ करा देता है तो वह बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी अपने पास बरकरार रखेगा क्योंकि भारत ने 2018-19 के पिछले दौरे में सीरीज 2-1 से जीती थी।

ऑस्ट्रेलिया ने चौथे दिन बिना विकेट खोए 21 रन से आगे खेलना शुरू किया लेकिन भारत के तेज गेंदबाजों सिराज और ठाकुर ने अपना जलवा बिखेरते हुए कंगारु टीम को 75.5 ओवर में 294 रन पर ऑलआउट कर उसे विशाल बढ़त लेने से रोक दिया। सिराज ने 19.5 ओवर में 73 रन देकर पांच विकेट, ठाकुर ने 19 ओवर में 61 रन देकर चार विकेट और वाशिंगटन सुंदर ने 18 ओवर में 80 रन देकर एक विकेट लिया। टी नटराजन 14 ओवर में 41 रन जबकि नवदीप सैनी पांच ओवर में 32 रन देकर खाली हाथ रहे। कल चाहे जो हो, आज सिराज के पंजे और ठाकुर के चौके ने मैच में रोमांच जरूर ला दिया।

इससे पहले सुबह सलामी बल्लेबाज मार्कस हैरिस ने एक रन तथा डेविड वार्नर ने 20 रन से अपनी पारी को आगे बढ़ाया और दोनों बल्लेबाजों ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए पहले विकेट के लिए 89 रन जोड़े। इस वक्त ऐसा लग रहा था कि यह साझेदारी और बड़ी होगी लेकिन ठाकुर ने विकेट के पीछे रिषभ पंत के हाथों कैच कराकर हैरिस को आउट किया। हैरिस ने 82 गेंदों में आठ चौकों की मदद से 38 रन बनाए।

ऑस्ट्रेलिया अभी पहले झटके से संभल ही नहीं पाया था कि ऑफ स्पिनर सुंदर ने वार्नर को पगबाधा आउट कर कंगारु टीम को दूसरा झटका दे दिया। वार्नर अर्धशतक बनाने से चूक गए और उन्होंने 75 गेंदों में छह चौकों की मदद से 48 रन बनाए। लगातार दो झटके लगने के बाद मार्नस लाबुशेन ने स्टीवन स्मिथ के साथ मिलकर ऑस्ट्रेलियाई पारी को संभालने की कोशिश की और दोनों बल्लेबाजों के बीच तीसरे विकेट के लिए 32 रन की साझेदारी हुई।

यह साझेदारी हालांकि और बड़ी होती, उससे पहले ही सिराज ने रोहित शर्मा के हाथों कैच कराकर लाबुशेन की पारी का अंत कर दिया और यह साझेदारी घातक होने से पहले ही टूट गयी। लाबुशेन ने 22 गेंदों में पांच चौकों की मदद से 55 रन बनाए। लाबुशेन के आउट होने के तुरंत बाद ही सिराज ने मैथ्यू वेड को पंत के हाथों कैच कराकर आउट किया और ऑस्ट्रेलिया को चौथा झटका दिया। वेड तीन गेंदें खेल खाता खोले बिना आउट हुए।

चार झटके लगने के बाद स्मिथ ने ग्रीन के साथ मिलकर ऑस्ट्रेलियाई पारी को गति देने की कोशिश की और दोनों ने मिलकर पांचवें विकेट के लिए 73 रन जोड़ डाले। स्मिथ और ग्रीन ने सधी हुई बल्लेबाजी कर भारतीय गेंदबाजों को खासा परेशान किया और स्मिथ ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए अपने टेस्ट करियर का 31वां अर्धशतक जड़ा।

स्मिथ पचासा जड़ने के बाद ज्यादा देर अपनी पारी को आगे नहीं बढ़ा सके और सिराज की गेंद पर कप्तान अजिंक्या रहाणे को कैच थमाकर पवेलियन लौट गए। स्मिथ ने 74 गेंदों में सात चौकों की मदद से 55 रन बनाए। स्मिथ के आउट होने के बाद ग्रीन ने जिम्मेदारी संभाली और सधी हुई पारी खेली। लेकिन ठाकुर ने रोहित के हाथों कैच कराकर ग्रीन की पारी का अंत कर दिया। ग्रीन ने 90 गेंदों में तीन चौकों के सहारे 37 रन बनाए।

ग्रीन के पवेलियन लौटने के बाद कप्तान टिम पेन ने पैट कमिंस के साथ साझेदारी करने की कोशिश की लेकिन यह साझेदारी भी ज्यादा देर नहीं टिक सकी और ठाकुर ने पंत के हाथों कैच कराकर पेन को आउट किया। पेन ने 37 गेंदों में तीन चौकों की मदद से 27 रन बनाए। पेन के आउट होने के कुछ देर बाद ही सिराज ने नवदीप सैनी के हाथों कैच कराकर मिशेल स्टार्क को पवेलियन भेजा। स्टार्क ने चार गेंदों में एक रन बनाए।

कमिंस ने हालांकि निचले क्रम के बल्लेबाजों के साथ मिलकर कुछ रन जोड़े और टीम की बढ़त को 300 रन के पार पहुंचा दिया। कमिंस एक छोर से अपनी पारी आगे बढ़ाते रहे लेकिन दूसरे छोर से अंत के दोनों बल्लेबाज उनका साथ ज्यादा देर नहीं दे सके।

नाथन लियोन ठाकुर की गेंद पर मयंक अग्रवाल को कैच थमाकर आउट हुए जबकि जोश हेजलवुड को सिराज ने ठाकुर के हाथों कैच कराकर पवेलियन भेजा। लियोन ने 10 गेंदों में एक छक्के की मदद से 13 रन और हेजलवुड ने 11 गेंदों में दो चौकों के सहारे नौ रन बनाए जबकि कमिंस 51 गेंदों में दो चौकों और एक छक्के की मदद से 28 रन बनाकर नाबाद रहे।

Updated : 18 Jan 2021 9:28 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top