Top
Home > प्रमुख ख़बरें > बैंक खाता बंद करने से पहले रखें इन बातों का खास ख्याल 

बैंक खाता बंद करने से पहले रखें इन बातों का खास ख्याल 

बैंक खाता बंद करने से पहले रखें इन बातों का खास ख्याल 
X

नई दिल्ली (ब्यूरो रिपोर्ट) : अगर आप अपने किसी बैंक खाते का इस्तेमाल नहीं करते हैं तो उसे बंद करा देना ठीक होता, क्योंकि खाते में आपको मिनिमम बैलेंस मेनटेन करना होता है. साथ ही बैंक आपसे इसके लिए चार्ज भी वसूलता है. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि अक्सर बैंक खाते से निवेश, लोन, ट्रेडिंग, क्रेडिट कार्ड पेमेंट और बीमा से जुड़े पेमेंट लिंक होते है. इसीलिए सबसे पहले इन्हें डी-लिंक कराएं. अगर आपके इस बैंक खाते से इस तरह का कोई दूसरा खाता लिंक है तो पहले अपने दूसरे बैंक अकाउंट को इस तरह के पेमेंट से लिंक कर दें. अकाउंट बंद करते वक्त आपको डी-लिंकिंग अकाउंट फॉर्म भरना पड़ सकता है.पहला स्टेप- आपको बैंक की ब्रांच जाकर क्लोजर फार्म भरना होगा. इस फॉर्म में खाता बंद करने की वजह बताना होगा. अगर आपका खाता ज्वाइंट खाता है तो फॉर्म पर सभी खाताधारकों का हस्ताक्षर जरूरी है. आपको एक दूसरा फॉर्म भी भरना होगा. इसमें आपको उस अकाउंट की जानकारी देनी होगी, जिसमें आप बंद होने वाले अकाउंट में बचा पैसा ट्रांसफर कराना चाहते हैं. अकाउंट बंद कराने के लिए आपको बैंक की शाखा में खुद जाना पड़ेगा.दूसरा स्टेप- बैंक आपसे इस्तेमाल नहीं की गई चेकबुक और डेबिट कार्ड बैंक क्लोजर फॉर्म के साथ जमा करने के लिए कहेगा, इसीलिए अपने साथ इन्हें ले जाना न भूलें.तीसरा स्टेप- आप खाता खोलने के 14 दिन बाद से लेकर एक साल पूरा होने से पहले उसे बंद कराते हैं तो आपको अकाउंट क्लोजर चार्ज देना पड़ सकता है. आम तौर पर एक साल से ज्यादा पुराने खाते को बंद कराने पर क्लोजर चार्ज नहीं लगता है.चौथा स्टेप- बैंक खाते में पड़े पैसा का भुगतान कैश (सिर्फ 20,000 रुपये तक) में हो सकता है. आपके पास इस पैसे को अपने दूसरे बैंक खाते में ट्रांसफर कराने का भी विकल्प है. इस बात का भी ध्यान रखें अगर आपके खाते में ज्यादा पैसा है तो क्लोजर प्रोसेस शुरू करने से पहले उसे दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर कर दें. अकाउंट का अंतिम स्टेटमेंट अपने पास रखे, जिसमें अकाउंट क्लोजर का जिक्र हो.

Updated : 23 March 2019 5:54 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top