Top
Home > टेक न्यूज़ > अफवाहों पर न दें ध्यान, 5G टेस्टिंग का कोरोना से नहीं है कोई सम्बन्ध

अफवाहों पर न दें ध्यान, 5G टेस्टिंग का कोरोना से नहीं है कोई सम्बन्ध

हाल ही में सोशल मीडिया पर कुछ ऐसे पोस्ट किए गए हैं, जिनमें दावा किया जा रहा है कि कोरोना की दूसरी लहर का कारण 5जी मोबाइल टावरों की टेस्टिंग है। दूरसंचार विभाग ने इसे लेकर स्पष्टीकरण दिया है और कहा है कि ऐसे संदेश गलत हैं।

अफवाहों पर न दें ध्यान, 5G टेस्टिंग का कोरोना से नहीं है कोई सम्बन्ध
X

उदय सर्वोदय

नई दिल्ली : कोरोना वायरस की दूसरी लहर के चलते देश में हालात तो गंभीर बने ही हुए हैं, इस दौरान अफवाहों ने स्थिति और विकट कर दी है। हाल ही में सोशल मीडिया पर कुछ ऐसे पोस्ट किए गए हैं जिनमें दावा किया जा रहा है कि कोरोना की दूसरी लहर का कारण 5जी मोबाइल टावरों की टेस्टिंग है। अब, संचार मंत्रालय के तहत आने वाले दूरसंचार विभाग ने इसे लेकर स्पष्टीकरण दिया है और कहा है कि ऐसे संदेश गलत हैं।

सोशल मीडिया पर 5G टेक्नोलॉजी दूरसंचार विभाग ने कहा कि 5जी तकनीक और कोविड-19 के प्रसार के बीच कोई संबंध नहीं है। विभाग ने लोगों से अपील की कि वे सोशल मीडिया पर फैल रहे इस तरह के आधारहीन एवं फर्जी संदेशों से गुमराह न हों।

विभाग ने सोमवार को एक आधिकारिक बयान में कहा कि यह दावा 'गलत' है और इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है कि देश में 5जी ट्रायल या नेटवर्क से कोविड-19 बीमारी फैल रही है। बयान में कहा गया कि विभिन्न सोशल मीडिया मंचों पर गुमराह करने वाले कई संदेश फैले हुए हैं जिनमें दावा किया गया है कि देश में महामारी की दूसरी लहर का कारण 5जी मोबाइल टावर के परीक्षण हैं।

दूरसंचार विभान ने कहा, 'ये संदेश गलत हैं और पूरी तरह से बेबुनियाद हैं। इसलिए आम जनता को सूचित किया जाता है कि 5G टेक्नोलॉजी एवं Covid-19 के प्रसार में कोई संबंध नहीं है और उनसे अपील की जाती है कि वे इससे जुडी गलत सूचना एवं अफवाहों से गुमराह न हो। 5जी टेक्नोलॉजी और Covid-19 महामारी के बीच संबंध होने के दावे गलत हैं और इनका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है।


Updated : 11 May 2021 7:04 AM GMT
Tags:    

Shivani

Magazine | Portal | Channel


Next Story
Share it
Top