Top
Home > प्रमुख ख़बरें > तीन तलाक : राजनीतिक पार्टियों के बीच घमासान

तीन तलाक : राजनीतिक पार्टियों के बीच घमासान

तीन तलाक :  राजनीतिक पार्टियों के बीच घमासान
X

तीन तलाक बिल को लेकर देश में पहले से ही राजनीतिक पार्टियों के बीच घमासान मचा है और लोगों की भी इस बिल को लेकर अलग- अलग राय है. वही आज संसद के शीतकालीन सत्र में तीन तलाक का विधेयक पारित हो सकता है. आपको बता दे कि विपक्ष के विरोध के कारण लम्बे समय से यह बिल संसद में अटका पड़ा हैवही इस बात को भी कहा जा रहा है कि संसद में सर्वसम्मति से इस बिल के पारित होने कि उम्मीद कम ही दिख रही है.बात अगर कांग्रेस पार्टी कि करे तो कांग्रेस इस बिल को लेकर मोदी सरकार पर कुछ सवाल दाग कर इस बिल का समर्थन कर सकती है. वही तृणमूल कांग्रेस (TMC) के इस बिल के विरोध में कायम रहने कि उम्मीद है. वही आज तीन तलाक बिल को लेकर भाजपा और कांग्रेस ने अपने सांसदों को संसद में किसी भी हालत में मौजूद रहने को लेकर व्हिप जारी किया है. बात अगर मोदी सरकार कि करे तो तो कहा जा रहा है कि लोकसभा में मोदी सरकार को बहुमत को देखते हुए आज यह विधेयक पारित हो सकता है.आज सुबह जब संसद में इस विधेयक को लेकर सदन कि कार्यवाई शुरू हुई तो संसद का माहोल काफी हंगामेदार रहा जिसको देखते हुए सदन कि कार्यवाई को दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया. तीन तलाक बिल पर पारित किये जाने वाले विधेयक को राजनीतिक रूप से भी काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है. दरअसल, भाजपा तीन तलाक बिल के बहाने मुस्लिम महिलाओं के वोट को अपनी और करने और महिलाओं के बराबरी के मुद्दे को ऊपर रखना चाहती है.एक बार पास हो चुका है बिलअगर भाजपा आज संसद में इस विधेयक को पास कराने में सफल हो जाती है तो इसका प्रभाव 2019 के लोकसभा चुनाव में देखने को मिल सकता है, जिसका जीता जागता उदाहरण 2016 के यूपी विधानसभा चुनाव में देखने को मिला था जहाँ मुस्लिम महिलाएं भाजपा के लिए मुस्लिम बाहुल्य इलाके में गेम चेंजर साबित हुई थी. खैर जो भी हो आज तीन तलाक पर विधेयक संसद में पास हो पता है या नहीं इस बात का पता तो समय के साथ ही चल पायेगा. गौरतलब है कि इससे पहले भी सरकार ने तीन तलाक बिल को लोकसभा में पास करवा लिया था लेकिन राज्यसभा में बहुमत न होने के कारण मोदी सरकार इस बिल को कानूनी रूप देने में असफल रही.

Updated : 27 Dec 2018 9:02 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top