Top
Home > राज्यवार > उत्तर प्रदेश > बीजेपी के मंत्री समाजवादी पार्टी में शामिल, बीजेपी को बड़ा झटका

बीजेपी के मंत्री समाजवादी पार्टी में शामिल, बीजेपी को बड़ा झटका

भारतीय जनता पार्टी को आज उस समय झटका लगा, जब बांदा से विधायक रहे शिवशंकर सिंह पटेल ने समाजवादी पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली।

बीजेपी के मंत्री समाजवादी पार्टी में शामिल, बीजेपी को बड़ा झटका
X
UP: अखिलेश यादव, शिव शंकर सिंह पटेल व अन्य सदस्य

उदय सर्वोदय ब्यूरो

सीतापुर। भारतीय जनता पार्टी (BJP) को आज उस समय झटका लगा, जब बांदा (Banda) से विधायक रहे शिवशंकर सिंह पटेल (Shivshankar Singh Patel) ने समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) की सदस्यता ग्रहण कर ली। उन्होंने समाजवादी पार्टी की नीतियों और अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के नेतृत्व से प्रभावित होकर ये निर्णय लिया। पूर्व मंत्री और बबेरू, बांदा से भाजपा विधायक रहे शिवशंकर सिंह पटेल आज अपने कई प्रमुख सहयोगियों के साथ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उम्मीद जताई है कि इन साथियों के आने से समाजवादी पार्टी को मजबूती मिलेगी।

बता दें शिवशंकर सिंह पटेल लगातार तीन बार बांदा जनपद के बबेरू विधानसभा क्षेत्र से विधायक रहे और उत्तर प्रदेश सरकार में सिंचाई एवं लोक निर्माण राज्यमंत्री भी रहे थे। आज शिवशंकर सिंह पटेल के साथ उनकी पत्नी कृष्णा पटेल, पूर्व अध्यक्ष जिला पंचायत बांदा तथा भतीजे पूर्व ब्लाक प्रमुख राजेंद्र सिंह ने भी समाजवादी पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

इनके अतिरिक्त जिला पंचायत बांदा के सदस्य अशरफ उल अमीन भी समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए हैं। इस अवसर पर सपा जिलाध्यक्ष, बांदा विजय करन यादव और भरत सिंह पूर्व सदस्य जिला पंचायत बांदा भी उपस्थित रहे।

वहीं दूसरी तरफ बीजेपी पर हमला बोलते हुए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा के 4 साल किसानों के लिए विनाशकारी साबित हुए हैं। तीन काले कृषि कानून लाकर किसानों को बड़े पूंजीघरानों को आश्रित बना दिया है। न किसान को फसल का दाम मिल रहा है और नहीं उससे किए गये वादे पूरे हो रहे हैं। पिछले दिनों हुई बरसात में हजारों टन गेहूं क्रय केंद्रों में खुले में पड़े रहने से बर्बाद हो गया। किसानों को बहाने बनाकर परेशान किया जा रहा है।

फतेहपुर के असोधरा उपमंडी स्थल में संचालित हाट शाखा में 29 मई से तौल बंद है। हजारों कुंतल गेहूं तौल के इंतजार में पड़ा है। किसान टोकन लेकर भटक रहे है। मंडी में खुले में गेहूं पड़ा है, बारिश के अंदेशे के बावजूद बचाव का कोई प्रबंध नहीं।

संभल में गेहूं क्रय केंद्रों पर 50 क्विंटल से ज्यादा किसानों से गेहूं खरीदा नहीं जा रहा है। आगरा में 4 अप्रैल तक गेहूं की खरीद नहीं हुई। 2 महीने पहले जिन किसानों ने आनलाइन पंजीकरण करा लिया था वे भी मारे-मारे घूम रहे हैं। ट्रैक्टर ट्राली में गेहूं लदा हुआ खड़ा है।

Updated : 2021-06-10T17:57:24+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top