Top
Home > राज्यवार > उत्तर प्रदेश > मथुरा: किसान महापंचायत में बोलीं प्रियंका- मोदी सरकार का अहंकार भगवान श्रीकृष्ण तोड़ेंगे

मथुरा: किसान महापंचायत में बोलीं प्रियंका- मोदी सरकार का अहंकार भगवान श्रीकृष्ण तोड़ेंगे

मथुरा के पालीखेड़ा मैदान में किसान महापंचायत के लिए आईं प्रियंका गांधी वाड्रा के मंच पर पहुंचते ही कार्यकर्ताओं ने उनका नारे लगाकर स्वागत किया।

मथुरा: किसान महापंचायत में बोलीं प्रियंका- मोदी सरकार का अहंकार भगवान श्रीकृष्ण तोड़ेंगे
X

उदय सर्वोदय

मथुरा: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2022 के लिए कांग्रेस पार्टी अपनी जमीन मजबूत करने में जुटी है। कांग्रेस कृषि बिल को लेकर किसानों का साथ दे रही है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में किसान आंदोलन की कमान कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने संभाल रखी है, इसीलिए यहाँ प्रियंका लगातार सभाएं और महापंचायत कर रही हैं। मंगलवार को प्रियंका गांधी ने मथुरा में किसानों को संबोधित किया।

मथुरा के पालीखेड़ा मैदान में किसान महापंचायत के लिए आईं प्रियंका गांधी वाड्रा के मंच पर पहुंचते ही कार्यकर्ताओं ने उनका नारे लगाकर स्वागत किया। प्रियंका के आते ही समूचे पंडाल में एक नई ऊर्जा का संचार हो गया। वहां मौजूद जनता ने हाथ हिलाकर उनका स्वागत किया। प्रियंका गांधी ने मंच पर पहुंचकर कहा कि मेरा सौभाग्य है कि यहां खड़ी हूं। बांकेबिहारी महाराज की जय, गिरिराज महाराज की जय, जमुना मैया की जय के साथ अपना भाषण शुरू किया।

महापंचायत को संबोधित करते हुए प्रियंका ने भाजपा सरकार पर करारे हमले किए। प्रियंका ने अपने भाषण में पीएम मोदी को केंद्रित रख कहा कि किसान कानून को अरबपतियों के लिए बनाया गया। वहीं भगवान श्रीकृष्ण की नगरी में उन्होंने कहा कि इस सरकार का अहंकार भगवान श्रीकृष्ण तोड़ेंगे।

प्रियंका ने कहा, 'ये मथुरा की धरती अहंकार को तोड़ती है। यहां श्री कृष्ण जी इंद्र भगवान के अहंकार को तोड़ने के लिए गोवर्धन पर्वत लेकर आए थे। यहां 90 दिनों से किसान अपने अधिकारों की मांग कर रहे हैं लेकिन सरकार ने उनकी पिटाई की लेकिन उनकी सुनवाई नहीं की। प्रधानमंत्री जो दुनिया के हर कोने तक घूम आए पर वो दिल्ली के बार्डर तक नहीं पहुंच पाए।'

कांग्रेस महासचिव ने कहा, 'दिनकर ने कहा था- "जब नाश मनुष्य पर छाता है तो पहले विवेक मर जाता है"। भगवान इनका अहंकार तोड़ेंगे। यहां आलू किसानों का बुरा हाल था। पिछले साल गन्ने का भुगतान 15000 करोड़ रुपये है, लेकिन प्रधानमंत्री ने अपने लिए 16000 करोड़ के दो जहाज़ खरीदे।

आवारा पशुओं से किसान प्रताड़ित हो चुका है। ब्रज क्षेत्र की गौशालाओं का बुरा हाल है, यहां पर गौवंश को न चारा मिल रहा है पानी। सरकार ने गौशालाओं के नाम पर 200 करोड़ आवंटित किए। कहां हैं वो रूपए? अभी आगरा में कितने गौवंश मरे।''

कृषि कानूनों का जिक्र करते हुए कांग्रेस महासचिव ने कहा कि सरकार ने क़ानून बनाते वक्त किसी किसान से नहीं पूंछा। ये कानून नोटों की खेती करने वाले ने बनाया है। ये क़ानून उन खरबपतियों के लिए बनाया गया है।


प्रियंका ने कहा कि 'इनके' मित्रों के लाखों करोड़ों का क़र्ज़ माफ़ हुआ लेकिन किसान का एक रुपया माफ़ नहीं हुआ। आपकी सुनवाई नहीं हो रहा। आपका मज़ाक़ उड़ाया जा रहा है। डीज़ल पेट्रोल पर टैक्स लगाया जा रहा है। आपको दुख-दर्द को बांटने की बजाय आपकी भरे संसद में बेइज़्ज़ती की गई। आपको 'आंदोलनजीवी' बोला। मेरे भाई राहुल गांधी ने शहीद किसानों के लिए मौन रखने के लिए कहा। सारा विपक्ष खड़ा हुआ पर सरकार का एक नेता नहीं खड़ा हुआ।'

उन्होंलने कहा, 'प्रधानमंत्री पिछली सरकार को दोषी ठहराते हैं। शुक्र करिए कि पिछली सरकार ने कुछ बनाया था। आपने तो कुछ बनाया नहीं। जो पिछली सरकारों ने बनाया वो जनता के उद्योग इन्होंने बेच दिए। प्रियंका ने संघर्ष का जज्बाह दिखाते हुए कहा, 'जब तक आप लड़ते रहेंगे तब तक मैं लड़ती रहूंगी। भगवान श्री कृष्ण इस सरकार का अहंकार तोड़ेंगे। इस सरकार का अहंकार हम तोड़ेंगे।

संबोधन के आखिर में प्रियंका ने किसान आंदोलन में मारे गए किसानों के सम्मा न में दो मिनट का मौन रखने का आग्रह किया। फिर 'जय जवान जय किसान' के साथ अपना भाषण समाप्त किया।

Updated : 23 Feb 2021 10:59 AM GMT
Tags:    

Uday Sarvodaya

Magazine | Portal | Channel


Next Story
Share it
Top